Home राजनीति अकर्मण्य अधिकारियों पर कार्यवाही से भाजपा को क्यो पीड़ा हो रही –...

अकर्मण्य अधिकारियों पर कार्यवाही से भाजपा को क्यो पीड़ा हो रही – कांग्रेस

रायपुर। अपनी जिम्मेदारी का सही ढंग से निर्वहन नही करने वालो पर हो रही कार्यवाही से भाजपा को क्यो पीड़ा हो रही है। प्रदेश कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि भरतीय जनता पार्टी ने अपने पन्द्रह सालो के कार्यकाल में सरकारी विभागों में काम करने की संस्कृति को बर्बाद कर दिया […]

26

रायपुर। अपनी जिम्मेदारी का सही ढंग से निर्वहन नही करने वालो पर हो रही कार्यवाही से भाजपा को क्यो पीड़ा हो रही है। प्रदेश कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि भरतीय जनता पार्टी ने अपने पन्द्रह सालो के कार्यकाल में सरकारी विभागों में काम करने की संस्कृति को बर्बाद कर दिया था। भाजपा अध्यक्ष विक्रम उसेंडी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की प्रशासनिक घुड़सवारी की चिंता मत करे सारे घोड़ो की लगाम कस ली गयी है वे सरपट दौड़ भी रहे हैं।

कुछ घोड़ो को भाजपा सरकार ने भ्रष्टाचार के चने खिला-खिला कर मोटी चर्बी वाला बना दिया था, ऐसे बिगड़ैल घोडो को भ्रस्टाचार का चना मिलना बंद हो गया है तो इनका बिदकना स्वाभाविक है। ऐसे लोगो को भी अब समझ आने लगा है, उन्हें हर हाल में काम करना होगा ।

प्रदेश कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत सरप्लस राज्य है। प्रदेश के सभी बिजली उत्पादक इकाइयां सही ढंग पूरा उत्पादन कर रही है ऐसे में बिजली कटौती का सवाल ही नही उठता। कही-कही तकनीकी कारणों से विद्युत सप्लाई बाधित भले ही हो रही है, लेकिन विद्युत कटौती वाली स्थिति तो बिल्कुल भी नही है।

बिजली भंडारण करने वाली वस्तु नही है उसका उत्पादन हो रहा है तो वितरण भी तुरंत होता है ऐसे में बिजली कटौती की बाते भाजपा का प्रपोगंडा और षड्यंत्र है। इस षड्यंत्र में कुछ विभागीय भ्रस्ट लोगो के शामिल होने से इनकार नही किया जा सकता है, ऐसे लोग चिन्हाकित भी किये जा रहे है उनपर कार्यवाही भी हो रही है। छत्तीगढ़ की कांग्रेस सरकार और मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा लिए जा रहे जनहित के निर्णयों से विचलित मुद्दाविहीन भाजपा दुष्प्रचार में लगी है।

बिजली बिल आधा होने के कारण जनता को मिल रही राहत को भाजपा पचा नही पा रही है इसी लिए बिजली कटौती के भ्रामक प्रचार और षड्यंत्र कर रही है। किसानों के कर्ज माफी के सम्बंध और भ्रस्टाचार पर हो रही कार्यवाहियो पर भी यही दुष्प्रचार किया जा रहा है।