Home जिले डॉ रमन सिंह ने छत्तीसगढ़ राज्य के पैसों की जमकर बर्बादी की:...

डॉ रमन सिंह ने छत्तीसगढ़ राज्य के पैसों की जमकर बर्बादी की: सुशील आनंद शुक्ला

रायपुर. छत्तीसगढ़ में पूर्व की रमन सिंह सरकार के फिजूलखर्ची को लेकर कांग्रेस ने हमला बोला है. प्रदेश कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा है कि रमन सिंह सरकार ने राज्य सरकार के पैसों की जमकर बर्बादी की है. रमन सिंह अपने कार्यकाल में भले ही प्रोजेक्ट छोटा हो लेकिन उद्घाटनों में […]

124
Sushil-Aanand-Shukla
Sushil-Aanand-Shukla

रायपुर. छत्तीसगढ़ में पूर्व की रमन सिंह सरकार के फिजूलखर्ची को लेकर कांग्रेस ने हमला बोला है. प्रदेश कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा है कि रमन सिंह सरकार ने राज्य सरकार के पैसों की जमकर बर्बादी की है.

रमन सिंह अपने कार्यकाल में भले ही प्रोजेक्ट छोटा हो लेकिन उद्घाटनों में पैसे लूटाने में कोई कसर नहीं छोड़ते थे. राजनांदगांव जिले के बोरी में बनाए गए 33/11 केवी उपकेंद्र का लोकार्पण में 59 लाख रुपये फूंक दिए. जबकि ये प्रोजेक्ट ही 1.5 करोड़ था, यानि प्रोजेक्ट के कुल बजट की एक तिहाई से ज़्यादा राशि केवल उद्घाटन के नाम पर रचे गए प्रपंच में लुटा दी.

प्रदेश कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने इस सब स्टेशन के लोकार्पण के खर्च का पूरा ब्यौरा पेश करते हुए बताया कि राजनांदगांव जिले में इस सब स्टेशन के लोकार्पण कार्यक्रम में पूर्व मुख्यमंत्री और उनके सांसद बेटे अभिषेक सिंह के आतिथ्य में गाड़ियों में लाखों रुपये के डीज़ल भरवाए गए, ये कार्यक्रम करीब एक घंटे का था.

डीजल का भुगतान छत्तीसगढ़ स्टेट पॉवर कंपनी के खाते से किया गया ,जिले के खाद्य अधिकारी, डीएएफओ, फूड कंट्रोलर जैसे अधिकारियों के नाम से जारी लगभग 10 लाख रूपये डीजल बिल का भुगतान बिजली कंपनी के खाते से किया गया. जिन पेट्रोल पंप को ये भुतान किया गया, उनमें राजनांदगांव के बसंतपुर स्थिति तीर्थ फ्यूल को 3.05 लाख रुपये, सीटी फ्यूल मठपारा को 3.90 लाख, दवे एण्ड कंपनी दुर्ग को 1.23 लाख, राजनांदगांव में पदुमतरा के अशोक फ्यूल को 1.53 लाख रुपये और छुरिया के भैयाजी फ्यूल को 70 हज़ार रुपये का भुगतान किया गया है.

लोकार्पण के कार्यक्रम में मंच और टेंट हाऊस के भुगतान का भी ब्यौरा देते हुये प्रदेश कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने बताया है कि छोटे से उपकेन्द्र के लोकार्पण समारोह की आड़ में रमन सिंह और अभिषेक ने स्वयं का प्रचार-.प्रसार करने में किया है. भारी भरकम वॉटर प्रूफ पण्डाल और विशालकाय मंच के लिए करीब साढ़े तीरालिस लाख रुपये खर्च किया गया है, इसमें एक नहीं तीन-.तीन टेंट हाऊस को काम देकर भुगतान किया गया.

इस कार्यक्रम के आयोजन के एवज में 29 लाख हरिहंत किराया भण्डार को, 10.35 लाख भारत किराया भण्डार तथा 4.3 लाख सुरेश फ्रेब्रिकेटर्स का भुगतान किया गया है. इस कार्यक्रम में अनेक छोटे मोटे कार्य का बोझ भी शासकीय विभागों पर डाला गया है. ये एक बानगी है कि रमन सिंह ने अपनी ब्रांडिग करने में अपने निजी राजनैतिक फायदे के लिये प्रदेश के खजाने का कैसे बेजा इस्तेमाल किया.