देश - विदेश

UP: रामराज्य की परिकल्पना के साथ कल्याण ने किया था एसटीएफ का गठन, कई दहशतगर्दों का हुआ था अंत

लखनऊ (UP) कोमल हृदय मगर राजनीति में शुचिता बरकरार रखने के लिये कठिन फैसले लेने में तनिक भी देर नहीं करने वाले भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के दिवंगत नेता कल्याण सिंह ने अपने मुख्यमंत्री काल में उत्तर प्रदेश में पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) का गठन कर राज्य में कानून व्यवस्था के खिलाफ खिलवाड़ करने वालों को सख्त संदेश दिया था।

(UP) वर्ष 1991 में प्रदेश में भाजपा के पहले मुख्यमंत्री के तौर पर सिंह ने अपने करीब डेढ़ वर्ष के संक्षिप्त कार्यकाल में छह दिसम्बर 1992 को बाबरी विध्वंस के बाद अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया था जिसके एक दिन बाद प्रधानमंत्री नरसिंहराव ने उनकी सरकार को बर्खास्त कर दिया था। अपने दूसरे कार्यकाल में सिंह ने 21 सितम्बर 1997 को शपथ ग्रहण करने के बाद चार मई 1998 को एसटीएफ का गठन कराया और उसे पहला टास्क आतंक का पर्याय बने गोरखपुर के दुर्दांत माफिया प्रकाश शुक्ला की दहशत को खत्म करने का दिया था। सिंह के इस निर्णय की परिणाम जल्द सामने आया जब 22 सितंबर 1998 में गाजियाबाद में एसटीएफ ने एक मुठभेड़ में श्रीप्रकाश शुक्ला को मार गिराया। (UP) नब्बे के दशक में श्रीप्रकाश का आतंक यूपी के अलावा पड़ोसी राज्य बिहार में भी था।

Corona: देश में मिले 30,948 नए मरीज, रिकवरी दर बढ़कर पहुंचा 97.57 फीसदी, 487 मरीजों की मौत

इसके बाद एसटीएफ ने पीछे मुड़ कर नहीं देखा और एक के बाद एक कई माफियाओं और दुर्दांत अपराधियों को मुठभेड़ में ढेर कर प्रदेश में शांति का माहौल बनाने में अहम योगदान दिया। एसटीएफ की यह मुहिम आज भी जारी है जिसे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का भी भरपूर सहयोग मिल रहा है।

पूर्व पुलिस महानिदेशक बृजलाल ने बताया कि श्रीप्रकाश के खात्मे के बाद एसटीएफ ने निर्भय गुर्जर, ददुआ, ठोकिया जैसे तमाम अपराधियों का सफाया किया।

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: