राजनीति

UP: मौर्य और अखिलेश की वर्चुअल रैली में कोरोना नियम ताक पर, सपा कार्यालय के बाहर जुटी भीड़, डीएम ने दिए जांच के आदेश

लखनऊ। राजधानी में समाजवादी पार्टी के कार्यालय में शुक्रवार को एक ‘वर्चुअल रैली’ में शामिल होने के लिए सैकड़ों लोग पहुंचे। रैली को सपा प्रमुख अखिलेश यादव और भाजपा के पूर्व नेता स्वामी प्रसाद मौर्य ने संबोधित किया। ऐसे में लखनऊ समाजवादी पार्टी कार्यालय के बाहर भीड़ इकट्ठा करने पर पुलिस ने मौके पर पहुंचकर भीड़ को हटाया.

लखनऊ के पुलिस आयुक्त डीके ठाकुर ने कहा कि चुनाव आयोग के आदेशों का उल्लंघन कर जहां भी लोग बड़ी संख्या में इकट्ठा हो रहे हैं, वहां शहर की पुलिस तैनात की जा रही है. उन्होंने कहा हमें सोशल मीडिया पर सपा कार्यालय के बाहर भीड़ जमा होने की सूचना मिली और भीड़ को हटाने के लिए पुलिस कर्मियों को भेजा।

Raipur: निलंबित IPS जीपी सिंह को पुलिस ने राजधानी के स्पेशल कोर्ट में किया पेश, नान घोटाले को लेकर कही ये बात

लखनऊ के जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने बताया कि बिना पूर्व अनुमति के समाजवादी पार्टी की वर्चुअल रैली हुई. डीएम प्रकाश ने कहा कि सूचना मिलने पर पुलिस टीम और मजिस्ट्रेट को सपा कार्यालय भेजा गया। उनकी रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई की जाएगी।”

समाजवादी पार्टी की उत्तर प्रदेश इकाई के प्रमुख नरेश उत्तम पटेल ने कहा कि हमने किसी को नहीं बुलाया लेकिन लोग आए। लोग कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए काम करते हैं।

समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने शुक्रवार को ‘वर्चुअल रैली’ के दौरान बागी मंत्रियों और बीजेपी विधायकों को पार्टी में शामिल कर लिया.

लखनऊ में सपा कार्यालय में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा में विकेट गिर रहे हैं और योगी आदित्यनाथ क्रिकेट खेलना नहीं जानते हैं और अब उन्होंने एक कैच छोड़ दिया है।” यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री ने दावा किया है कि हमारा गठबंधन 400 सीटें भी जीत सकता है।

Chhattisgarh : राज्यपाल ने छत्तीसगढ़ माल और सेवा कर (संशोधन) विधेयक पर किए हस्ताक्षर

स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि समाजवादी पार्टी के नेतृत्व वाला गठबंधन “भाजपा के अंत का इतिहास लिखने वाला है”। स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि भाजपा के वरिष्ठ नेता जो गहरी नींद में थे और उनके पास विधायकों और मंत्रियों से बात करने का समय नहीं था, उनकी अब रातों की नींद हराम हो रही है।

चुनाव आयोग ने रैलियों पर की थी प्रतिबंध की घोषणा

भारत के चुनाव आयोग ने 8 जनवरी को देश के कुछ हिस्सों में कोविड -19 मामलों में बढ़ोत्तरी को देखते हुए रैलियों पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की थी। आयोग ने स्पष्ट रूप से कहा था कि किसी भी पार्टी को उसके कोविड -19 दिशानिर्देशों का उल्लंघन करते हुए चुनाव प्रचार से रोक दिया जाएगा।

यदि कोई उम्मीदवार या राजनीतिक दल उपरोक्त दिशानिर्देशों में से किसी का उल्लंघन करता है, तो संबंधित उम्मीदवार / पार्टी को रैलियों, बैठकों आदि के लिए कोई और अनुमति नहीं दी जाएगी।

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: