Home जिले कबीर धाम(कवर्धा) Video: जर्जर भवन में पढ़ने और रहने को मजबूर इस आदिवासी बालक...

Video: जर्जर भवन में पढ़ने और रहने को मजबूर इस आदिवासी बालक छात्रावास के बच्चे, कभी भी घट सकती है बड़ी दुर्घटना

संजू गुप्ता@कवर्धा. जिला के पंडरिया ब्लॉक, कवर्धा ब्लॉक, बोड़ला ब्लॉक, लोहारा ब्लॉक, के 20 से भी अधिक गांव के 75 आदिवासी छात्र बालक आदिवासी बालक छात्रावास आश्रम दामापुर बाजार में रहकर पढ़ाई करते हैँ। जहां ना बैठने की व्यवस्था है, ना बैठ  कर खाना खाने की। 36 साल पुराने इस आश्रम मे आदिवासी बालक रहते […]

जर्जर भवन में पढ़ने और रहने को मजबूर इस आदिवासी बालक छात्रावास के बच्चे, कभी भी घट सकती है बड़ी दुर्घटना

संजू गुप्ता@कवर्धा. जिला के पंडरिया ब्लॉक, कवर्धा ब्लॉक, बोड़ला ब्लॉक, लोहारा ब्लॉक, के 20 से भी अधिक गांव के 75 आदिवासी छात्र बालक आदिवासी बालक छात्रावास आश्रम दामापुर बाजार में रहकर पढ़ाई करते हैँ। जहां ना बैठने की व्यवस्था है, ना बैठ  कर खाना खाने की।

36 साल पुराने इस आश्रम मे आदिवासी बालक रहते हैँ पंडरिया ब्लॉक के जंगल क्षेत्र से कुबा, सागोना, बदोरा, पोलमी, मुनमुना, मंगलीचैतरी, भड़गा, दईहानटोला, बिशेशरा, प्राणखैरा, पटुवा, कोयलारी, कवर्धा ब्लॉक तालपूर सिंगपुर, रेहुटा बोड़ला ब्लॉक सालहेभट्ठी सेजादिह के लगभग 20-21 गांव के आदिवासी बच्चे अपने परिवार छोड़ एक नये परिवार से जुड़ने शिक्षा प्राप्त करने आते हैँ।

 युवा जनता कॉग्रेस जे कवर्धा जिला के ग्रामीण जिला अध्यक्ष अश्वनी यदु ने बताया की आदिवासी आश्रम मे 75 छात्र है जिनमें 45 छात्र मिडिल में और 30 छात्र प्रायमरी में शिक्षा ग्रहण करते है। दुर्भाग्य की बात है कि यहां सिर्फ चार क्लास रूम है जहां आठ कक्षाएं लगाई जाती है। इन में से एक क्लास में तो कक्षा भी लगती है और क्लास रूम को चावल गेंहू आटा रखने स्टोर रूम बनाया गया है साथ ही उसी क्लास रूम को शिक्षक एवं अधीक्षक ने अपना कार्यालय बनाया है।

अधीक्षक कक्ष की हालत इतनी जर्जर हो चुकी है कि यह कब गिर जाये कुछ कह नही सकते है। ऐसे में अधीक्षक भी आश्रम मे एक किनारे बिस्तर लगाकर सोते हैं। वहीं जहां मध्यान्ह भोजन बनता है उसकी हालत भी खस्ताहाल हो गई है। आश्रम मे खाना बनाने की जगह ही नहीं हैं। सिर्फ लकड़ी का दो खंभा खड़ा कर पन्नी लगा दिया गया है, जिसमें कभी भी आग लग सकती है।

यहां छोटे छोटे बच्चे रहते हैं बड़ी दुर्घटना कभी भी घट सकती है। शिक्षकों की कमी के बावजूद यहां के शिक्षकों व अधीक्षक के बेहतर ताल मेल की वजह से यहां रहने, खाने व पढ़ने की व्यवस्था को सुचारु रुप से बेहद कम संशाधन व बिना सुविधाएं के संचालित किया जा रहा है। जनता कांग्रेस ने मांग की है कि मिडिल स्कूल हेतु अतिरिक्त कक्ष तत्काल दिया जाये। बालक आश्रम हेतु जर्जर हो चुके भवन का मरम्मत एक कार्यालय एवं बॉउंड्री वाल की मांग को लेकर जल्द ही इस विषय को लेकर कलेक्टर के नाम ज्ञापन देने व कार्यवाही नहीं होने पर बड़ा आंदोलन करने की बात कही है।