छत्तीसगढ़दंतेवाड़ा (दक्षिण बस्तर)

Dantewada: यहां कॉपी पेन के बदले बच्चों के हाथ में पकड़ाया गया फावड़ा, और शिक्षक कुर्सी बैठकर मारते रहे गप्पे…..शिक्षा के मंदिर में नौनिहालों से मजदूरी

दंतेवाडा। (Dantewada) बच्चों के लिए स्कूल शिक्षा का मंदिर होता है। लेकिन जब यही शिक्षा का मंदिर कॉपी पेन के बजाय हाथ में फावड़ा पकड़ा दे तो जी हां ऐसा ही कुछ देखने को मिला जिले के जारम पंचायत में संचालित मीडिल स्कूल में। बच्चों को पढ़ाई के बजाय फावड़ा पकाड़कर मिट्टी की खुदाई कराई जा रही थी। शिक्षक साहब कुर्सी पर बैठकर गप्पे मार रहे थे।

Surajpur: 63 करोड़ रुपयों के विकास कार्यों की सौगात, वीडियो कांफ्रेंसिग के माध्यम से 12 कार्यों का लोकार्पण, कलेक्टर समेत कई जनप्रतिनिधी रहे मौजूद

शिक्षकों को बेतूका जवाब

(Dantewada) इस मामले को लेकर जब तुलिका कर्मा ने शिक्षकों से बात की तो उन्होंने बेतुका सा जवाब देते हुए कहा कि बच्चों से शनिवार को बागवानी के नाम पर श्रम दान करवाया जा रहा है। जवाब सुनकर जिपं अध्यक्ष नाराज हुईं और पूछा कि क्या श्रमदान के नाम पर ऐसा मजदूरों की तरह काम कराया जाता है? शिक्षकों के पास कोई जवाब नहीं था। (Dantewada) तूलिका ने शिक्षकों को फटकार लगाते हुए भविष्य में ऐसा ना करने की हिदायत दी।

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: