Home राजनीति कांग्रेस के कुशासन से बस्तर के बिगड़े हालात, सरकार का सर्वर डाउन...

कांग्रेस के कुशासन से बस्तर के बिगड़े हालात, सरकार का सर्वर डाउन हो गया है – डॉ. रमन

जगदलपुर। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि कांग्रेस सरकार का सर्वर डाउन हो गया है। छत्तीसगढ़ में सत्तासीन कांग्रेस, प्रशासन का राजनीतिकरण और राजनीति का अपराधीकरण करने में लिप्त है। कांग्रेस के कुशासन में बस्तर के हालात बिगड़ गए हैं। बस्तर में एक भी नया काम विगत […]

जगदलपुर। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि कांग्रेस सरकार का सर्वर डाउन हो गया है। छत्तीसगढ़ में सत्तासीन कांग्रेस, प्रशासन का राजनीतिकरण और राजनीति का अपराधीकरण करने में लिप्त है। कांग्रेस के कुशासन में बस्तर के हालात बिगड़ गए हैं। बस्तर में एक भी नया काम विगत 10 महीने में शुरू नहीं हुआ है। पूर्व के आरंभ काम भी बंद हो गये है।

पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि कांग्रेस ने प्रदेश को दीवालियेपन की कगार पर खड़ा कर दिया है। अधिकारियों को ताश की गड्डी की तरह फेंटा जा रहा है। 10 महीने में ही कांग्रेस छत्तीसगढ़ की जनता से दूर हो गई है और घबराई हुई है। इसका प्रमाण है कि नगरीय निकाय चुनाव में कांग्रेस सरकार लगातार पांसे पलट रही है। अपनी पराजय सामने देख कांग्रेस भाग रही है। जनता के वोट देने का हक छीन कर खरीद फरोख्त और दबाव की राजनीति का षड्यंत्र किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने अपने घोषणापत्र का ढिंढोरा पीटा था,अब उसकी धज्जियां उड़ रही है। हाथ में गंगाजल और गीता लेकर शराबबंदी का वायदा करने वाली कांग्रेस के शासन में शराब की दुकानों से वसूली हो रही है। शराब को 20 से 50 रूपये तक अधिक कीमतों में बेचा जा रहा है। यह भूपेश टैक्स किसकी जेब में जा रहा है।

डॉ रमन सिंह ने कहा कि दंतेवाड़ा उपचुनाव में प्रशासन का दुरुपयोग किया गया व परिणाम बदल दिए गए। चित्रकोट उपचुनाव में हमने निष्पक्ष चुनाव कराने की मांग की है। अत्यंत संवेदनशील मतदान केंद्रों में 70 से 80 प्रतिशत का मतदान होना गड़बड़ी को स्पष्ट दर्शाता है। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि वीर सावरकर महान स्वतंत्रता सेनानी थे। जिन्होंने देश की स्वतंत्रता के लिए अपना सर्वस्व न्योछावर किया। उन पर टिप्पणी करने वालों को इतिहास पढ़ना चाहिए।