सूरजपुर

Surajpur: पटवारी रच रहा अंधविश्वास का खेल, अपना काम छोड़कर बना तांत्रिक बाबा, झाड़ फूंक कर लोगों को अपनी बातों में उलझा रहा…प्रशासनिक अधिकारी की कोई खबर नहीं…Video

अंकित सोनी@सूरजपुर। (Surajpur) जिले के ग्रामीण इलाको मे अंधविश्वास कि बयार इस कदर हावी है कि अब तंत्र मंत्र एक कारोबार का रुप ले रहा है, लेकिन इस फैलते अंधविश्वास को दुर करने के लिए कोई भी प्रशासनिक जिम्मेदार अपनी जिम्मेदारी निभाता नजर नही आ रहा। ऐसा ही एक मामला  जिले के कपसरा गांव से सामने आया है। जहां एक पटवारी शासकीय सेवक होते हुए भी किस तरह झाड़ फूंक कर लोगों को जाल में उलझा रहा है देखे इस खास रिपोर्ट मे,,,

(Surajpur) तस्वीरो मे झाङ फुंक करता यह आदमी कोई आम आदमी नही है। यह खुद एक पटवारी है, जो शासकीय पद पर काबिज है और कपसरा गांव समेत कई गांव के हल्का क्षेत्र मे कार्यरत है। इनका दावा है कि यह किसी भी प्रकार के भुत प्रेत से लेकर किसी भी बीमारी का अपने तंत्र मंत्र के विद्या से इलाज कर सकता है। ऐसे मे अपने कार्यस्थल क्षेत्र मे भी इनका खुब जलवा है और इस इलाके मे लोग भी इनसे किसी भी बीमारी और झाङ फूंक के लिए इनका ही सहारा लेते हैं। इनके तंत्र विद्या के दावे को आप खुद भी सुन लीजिए।

आईए बताते है इनके झाङ फूंक के इस तस्वीर कि कहानी

(Surajpur) दरअसल इसी इलाके के रहने वाले सामाजिक कार्यकर्ता बिट्टु सिंह को लगातार इस पटवारी के तंत्र मंत्र के दुकान के बारे पता चला जिसके बाद बिट्टु सिंह ने खुद भुत प्रेत से पीङित बनकर अपना नाम बदलकर इनसे इलाज करने कि बात की।  जिसके बाद क्या था,,पटवारी महोदय अपने ड्युटी के समय बन गए तांत्रिक और शुरु कर दिए झाङ
फूंक। भूमि संबंधी कार्यो को छोङकर पटवारी महोदय कुछ हवन कि सामग्री के साथ मोर पंख के झाङु लेकर अर्थ का अनर्थ करना शुरु कर दिए। जहां बिट्टु सिंह ने इनके झाङ फूक कि तस्वीर को अपने मोबाईल में कैद कर लोगो को अंधविश्वास के खिलाफ जागरुक करने कि मुहिम छेङ दी है.

एक ओर जिले के कई ग्रामिण इलाको मे झाङ फूंक कि तस्वीर सामने आते रहती है। जहां सर्पदंश से लेकर कई गंभीर बिमारियों का इलाज भी तंत्र मंत्र से तांत्रिक करते नजर आ जाते हैऔर कई बार इनके अंधविश्वास के चक्कर मे कई लोग जान गंवा चुके है तो कई के घर बरबाद हो गए। लेकिन इनके अंधविश्वास के दुकान को बंद करने के लिए कोई भी प्रशासनिक जिम्मेदार सामने नही आता। जिले के मुख्त चिकित्सा अधिकारी डाक्टर आर एस सिंह ने लोगो को तंत्र मंत्र से दुर रहने कि अपील करते नजर आए और एक शासकिय कर्मचारी के द्वारा अंधविश्वास के दुकान को चलाने को लेकर चिंता भी जाहिर की.

बहरहाल पटवारी जैसे पद पर पदस्थ होकर तंत्र मंत्र से अंधविश्वास को बढावा देने के चर्चे तो पुरे जिले में हैं। ऐसे मे इन अंधविश्वास कि दुकान चलाने वाले तांत्रिको पर जिला प्रशासन कि मेहरबानी समझ से परे हैं। हांलांकि बिट्टु सिंह जैसे युवक अब इन तांत्रिको के खिलाफ मुहिम छेङते नजर आ रहे हैं।

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: