Home जिले जिला स्वास्थ्य समिति की समीक्षा बैठक में कलेक्टर ने दिए निर्देश, मुख्यालय...

जिला स्वास्थ्य समिति की समीक्षा बैठक में कलेक्टर ने दिए निर्देश, मुख्यालय में निवास नहीं करने पर विभागीय जांच और सेवा की जाएगी समाप्त

आशीष बंगानी@धमतरी. कलेक्टर रजत बंसल की अध्यक्षता में आज सुबह आठ बजे से कलेक्टोरेट सभाकक्ष में जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक आयोजित की गई। समीक्षा करते हुए कलेक्टर ने कहा कि मुख्यालय में निवास नहीं करने वाले अधिकारी-कर्मचारियों की विभागीय जांच एवं सेवा समाप्ति की कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि जिले के उप स्वास्थ्य […]

579
rajat bansal

आशीष बंगानी@धमतरी. कलेक्टर रजत बंसल की अध्यक्षता में आज सुबह आठ बजे से कलेक्टोरेट सभाकक्ष में जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक आयोजित की गई। समीक्षा करते हुए कलेक्टर ने कहा कि मुख्यालय में निवास नहीं करने वाले अधिकारी-कर्मचारियों की विभागीय जांच एवं सेवा समाप्ति की कार्रवाई की जाएगी।

उन्होंने कहा कि जिले के उप स्वास्थ्य केन्द्र में पदस्थ एएनएम एवं आरएचओ को मुख्यालय में रहने का प्रमाण पत्र देना होगा। इसके लिए एफिडेविड प्रस्तुत किए जाने के निर्देश दिए गए हैं। बैठक में बताया गया कि कलेक्टर के निर्देशों के बावजूद धमतरी विकासखण्ड के 14, कुरूद के 23, मगरलोड के 06 तथा नगरी विकासखण्ड के तीन उप स्वास्थ्य केन्द्रों में मुख्यालय में निवास नहीं करना पाया गया है। इस संबंध में विभागीय जांच किए जाने के निर्देश दिए गए हैं। सभी विभागों के अधिकारी-कर्मचारियों को अपने-अपने मुख्यालय में रहना अनिवार्य होगा। मुख्यालय में नहीं रहने पर आसपास के पांच किलोमीटर के दायरे में निवास कर सकते हैं। आदेश के बावजूद 46 से अधिक एएनएम एवं आरएचओ इसका पालन नहीं कर रहे हैं। इसकी मॉनिटरिंग स्वयं कलेक्टर द्वारा किया जाकर संबंधितों के विरूद्ध आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।

जिले में संस्थागत प्रसव एवं अन्य स्वास्थ्य सेवाएं प्रभावित हो रहीं हैं। बैठक में गैर संचारी रोग की समीक्षा में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डा.डी.के.तुर्रे द्वारा बताया गया कि जिले में 69 स्वास्थ्य केन्द्रों में हेल्थ वेलनेस सेंटर स्थापित किए गए हैं, जिनमें लक्षित स्क्रीनिंग के विरूद्ध 34 हजार 584 का परीक्षण किया गया है। मुख्यतः ओरल कैंसर के 62, ब्रेस्ट कैंसर के 48, सर्वाईकल कैंसर के 344, डायबिटीज के 700 और हायपर टेंशन के तीन हजार 709 प्रकरणों का चिन्हांकित किया गया है, जिसे कुछ स्वास्थ्य केन्द्रों में जांच, उपचार के लिए भेजा जाएगा। पोषण पुनर्वास केन्द्र में बेड आक्युपेंसी दरों में बढ़ोत्तरी के लिए पंचायत स्तर पर विशेष प्रयास करने के निर्देश दिए हैं। कलेक्टर बंसल ने जीवनदीप समिति की समीक्षा करते हुए अस्पताल कंसल्टेंट को देरी से निविदा जारी पर नाराजगी व्यक्त करते हुए कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिए।

कुरूद कें विद्युत बोर्ड कार्यालय में फ्रीज ना लगाने तथा उसका उपयोग घर में किए जाने की वजह से बीएमओ और बीपीएम को कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिए। जिला अस्पताल में सोनोग्राफी मशीन की जांच के लिए ढाई सौ रूपए शुल्क रखने पर सहमति बनी। नगरी, मगरलोड में सी-सेक्शन (सीजर) स्थापित करने के निर्देश दिए। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग को निर्देशित करते हुए कहा कि बचे हुए तीन स्वास्थ्य केन्द्रों में पानी के बोरवेल व नलजल योजना के तहत् व्यवस्था किया जाए। खाद्य एवं औषधि प्रशासन को निर्देशित करते हुए कहा कि शराब दुकानों के निकटस्थ क्षेत्रों में गुमटी व होटलों पर परोसी जाने वाली चिकन, मटन की जांच आबकारी विभाग, अनुविभागीय अधिकारी राजस्व, तहसीलदार, थाना प्रभारी नगरीय निकाय के साथ संयुक्त टीम बनाकर उन क्षेत्रों में छापामार कार्रवाई करें। आगामी 14 से 28 जून तक कुष्ठ उन्मूलन कार्यक्रम चलाया जाएगा, जिसके तहत् 02 अक्टूबर तक धमतरी को कुष्ठमुक्त जिला बनाने प्रयास किए जाएंगे। इसके लिए स्लम क्षेत्रों में डोर-टू-डोर सर्वे भी कराया जाएगा। जिला अस्पताल, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में सेनेटरी नेपकीन पेड बैंक स्थापित करने के निर्देश दिए।

जिले में आगामी 21 जून से 23 जुलाई तक शिशु संरक्षण माह आयोजित किया जाएगा। जिसमें कार्यक्रम के दौरान 9 माह से पांच वर्ष तक के सभी बच्चों को विटामिन ’ए’ का खुराक छः माह के अंतराल में पिलाया जाएगा। नियमित टीकाकरण से छूटे हुए बच्चों का टीकाकरण किया जाएगा, जिसकी पूर्ण तैयारी करने तथा माईक्रोप्लान बनाने जिला टीकाकरण अधिकारी को निर्देश दिए। बच्चों में रोटा वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए जिले में जुलाई माह से वायरस वेक्सिन सभी स्वास्थ्य केन्द्रों में शुरू किया जाएगा, जिसमें बच्चों में दस्त से होने वाले गंभीर परिणाम को भी रोका जा सकेगा। कलेक्टर बंसल ने निर्देशित कर कहा है कि दिए गए निर्देशों का पालन समय सीमा में किया जाए तथा सभी अधिकारी-कर्मचारी अपने मोबाईल हमेशा चालू रखें। इसके अलावा उन्होंने निर्धारित कार्यों को गुणवत्तापूर्ण करने के निर्देश भी दिए हैं। बैठक में मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत विजय दयाराम के. सहित स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी, कर्मचारी तथा मैदानी चिकित्सक उपस्थित रहे।