Home जिले तेंदूपत्ता फड़ बंद होने से 16 गांव के ग्रामीणों के सामने रोजी-रोटी...

तेंदूपत्ता फड़ बंद होने से 16 गांव के ग्रामीणों के सामने रोजी-रोटी की समस्या, विधायक से फरियाद

बीजापुर। भैरमगढ़ वन भैंसा अभ्यारण्य में बसे 16 गांवों के ग्रामीणों ने विधायक निवास पहुंचकर एमएलए विक्रम शाह मण्डावी से मुलाकात की। मुलाकात में ग्रामीणों ने विधायक से वनाधिकार पट्टे की मांग की। ग्रामीणों की बातों को सुनकर विधायक ने जल्द से जल्द इस समस्या के निराकरण का आश्वासन दिया। साथ ही टाइगर रिजर्व के […]

तेंदूपत्ता फड़ बंद होने से 16 गांव के ग्रामीणों के सामने रोजी-रोटी की समस्या, विधायक से फरियाद

बीजापुर। भैरमगढ़ वन भैंसा अभ्यारण्य में बसे 16 गांवों के ग्रामीणों ने विधायक निवास पहुंचकर एमएलए विक्रम शाह मण्डावी से मुलाकात की। मुलाकात में ग्रामीणों ने विधायक से वनाधिकार पट्टे की मांग की।

ग्रामीणों की बातों को सुनकर विधायक ने जल्द से जल्द इस समस्या के निराकरण का आश्वासन दिया। साथ ही टाइगर रिजर्व के डिप्टी डायरेक्टर एनके शर्मा को तलब किया।

जानकारी के मुताबिक कोण्ड्रोजी, बिरियाभूमि, फुल्लोड़ एवं टिण्डोड़ी पंचायतों के 16 गांव के ग्रामीणों के सामने तब समस्या खड़ी हो गई। जब 2004 में तेंदूपत्ता में लगने वाले फड़ को बंद कर दिया गया।

इससे करीब 1500 संग्राहकों को सीधे घाटा होने लगा। इसके साथ ही अभ्यारण्य क्षेत्र में तेंदूपत्ता तोड़ाई बंद करा दी गई है। जिसके बदले संग्राहकों को दो-दो हजार रूपए की राशि दी जाने लगी।

लेकिन ग्रामीणों को इससे सीधा नुकसान हो रहा है। इस मामले में ग्रामीणों का कहना है कि ना ही हमें संग्रहण का दाम मिल रहा है और ना ही बोनस। अभ्यारण्य होने से कई काम गांवों में नहीं हो रहे हैं।

इस समस्या के निराकरण को लेकर ग्रामीण विधायक विक्रम मण्डावी के पास पहुंचे और अपनी समस्या उनको बताई। साथ ही उन्होंने वनाधिकार पट्टे की भी मांग की। वहीं ग्रामीणों ने एक ज्ञापन कलेक्टर केडी कुंजाम को भी सौंपा है। ग्रामीणों के मुताबिक कलेक्टर ने पटवारी को भेजने की बात कही है।