जांजगीर-चांपा

Janjgir-Champa: आखिर ऐसा क्या हुआ था कि 22 साल पहले घर छोड़कर चला गया था घनश्याम….वापस लौटने के बाद क्या कहना है परिजनों का..पढ़िए

जीवन पटेल@जांजगीर-चांपा। (Janjgir-Champa) छत्तीसगढ़ के जांजगीर जिले के अंतर्गत आने वाले ग्राम पंचायत झर्रा में उस समय खुशियों की लहर दौड़ गई जब घनश्याम साहू वापस अपने घर पहुंचा.

(Janjgir-Champa) मिली जानकारी के अनुसार आज से लगभग 22  साल पहले घनश्याम साहू अपने छोटे-छोटे बच्चों और पत्नी को छोड़ कर आगरा चला गया था. तब शायद उनकी दिमागी हालत ठीक नहीं थी. उनकी पत्नी ने बड़ी कठिनाइयों के साथ अपने दो बच्चों की परवरिश की और उन बच्चों का विवाह भी कराया. (Janjgir-Champa) घनश्याम के परिवार वालों ने तो शायद उसके जीवित रहने की उम्मीद भी खो दी थी. पर कहते हैं ना कि जाको राखे साइयां मार सके ना कोई जब उनके बच्चे से पुछा गया कि उनके पिता उन्हें कब छोड़ कर चले गए थे.

Raipur: फिर दूसरी नोटिस के बाद थाने नहीं पहुंचे जीपी सिंह….वकील के हाथ भेजा नोटिस का जवाब, जानिए क्यों

तब उसका कहना था कि जब वह तीन साल का था. तभी उसके पिता चले गए थे. घनश्याम साहू की बहु का कहना है कि बिना पिता के घर अधूरा लगता था. अब उसके पिता सामान ससूर के आने के बाद वह कमी पूरी हो गई है. वह अपने ससुर की खुब सेवा करना चाहती है.

Jammu-Kashmir: आतंकियों को सह देने वालों की खैर नहीं, NIA ने 14 जिलों में 40 से अधिक स्थानों पर मारा छापा, मचा हड़कंप

 वहीं गांव के सरपंच का कहना है तीन अन्य लोग घनश्याम साहू को लेकर आगरा से आए. जिनका उन्होंने अच्छे से स्वागत किया. घनश्याम साहू के परिवार में और रिस्तेदारो में खुशी की लहर है।

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: