Home जिले छाए रहे बादल, दिन और रात रूक-रूक कर हो रही रिमझिम बारिश...

छाए रहे बादल, दिन और रात रूक-रूक कर हो रही रिमझिम बारिश और शीतलहर से कपकपाया बेमेतरा

दुर्गा प्रसाद सेन@ बेमेतरा। पश्चिमी विक्षोभ के कारण प्रदेश के 3 संभागों में रायपुर बिलासपुर और दुर्ग में शीतलहर का आलम रहा है। बेमेतरा में झमाझम बारिश हुई। जिससे दोबारा ठिठुरन भरी ठंड लौट चुकी है। मौसम विभाग के मुताबिक बुधवार को भी कई स्थानों पर गरज चमक के साथ ओले गिरने के आसार हैं […]

छाए रहे बादल, दिन और रात रूक-रूक कर हो रही रिमझिम बारिश और शीतलहर से कपकपाया बेमेतरा

दुर्गा प्रसाद सेन@ बेमेतरा। पश्चिमी विक्षोभ के कारण प्रदेश के 3 संभागों में रायपुर बिलासपुर और दुर्ग में शीतलहर का आलम रहा है। बेमेतरा में झमाझम बारिश हुई। जिससे दोबारा ठिठुरन भरी ठंड लौट चुकी है। मौसम विभाग के मुताबिक बुधवार को भी कई स्थानों पर गरज चमक के साथ ओले गिरने के आसार हैं । यह स्थिति आगामी 3 से 4 दिनों तक रहने की आशंका है ।मौसम वैज्ञानिक के अनुसार हिमालय डिवीजन में पश्चिमी विक्षोभ प्रवेश कर चुका है। जो आगे बढ़ रहा है ।इस कारण से खासकर उत्तरी छत्तीसगढ़ में शीतलहर की स्थिति है। कुछ जिलों में हल्की से मध्यम बारिश भी हो रही है। दिन के तापमान में 7 से 8 डिग्री तक गिरावट आई है।

इधर तापमान कम होने की वजह से ठंड भी बढ़ गई है । सुबह से छाए बादल और दिनभर रुक-रुक कर पड़ रहे फुहार में शहर को कपकपा दिया । पारा सामान्य से 8 डिग्री सेल्सियस तक नीचे उतर आया पूरे 8 साल बाद ऐसी स्थिति बनी है ।जब फरवरी में अधिकतम तापमान 20 डिग्री सेल्सियस तक लुढ़क आया है। आमतौर पर फरवरी के पहले हफ्ते में तापमान 28 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहता है ।इससे पहले 2012 में ऐसी स्थिति बनी थी। इधर तापमान कम होने की वजह से शीतलहर की स्थिति बनी हुई है। दिनभर लोग ठंड की वजह से घर में दुबके रहे। सुबह 10 बजे के बाद शुरू हुई बूंदाबांदी दोपहर को फुहार में बदल गई ।आसपास के अंचल में भी अच्छी बारिश हुई है।