Home क्राईम डॉ. प्रभाकर राव के कत्ल की गुत्थी सुलझी, पैसों के लेनदेन की...

डॉ. प्रभाकर राव के कत्ल की गुत्थी सुलझी, पैसों के लेनदेन की वजह से भाई ही बन बैठा कातिल, पढ़े कैसे दिया घटना को अंजाम  

गोविंद कुमार साहू@धमतरी. पुलिस ने आखिरकार डॉ. प्रभाकर राव की हत्या करने वाले आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। यह आरोपी कोई और नही बल्कि मृतक का ही चचेरा भाई निकला। पुलिस के अनुसार हत्या पैसों के पुराने लेनदेन के चलते की गई थी। आरोपी के पास से 15 से 20 लाख रूपए के सोने […]

866

गोविंद कुमार साहू@धमतरी. पुलिस ने आखिरकार डॉ. प्रभाकर राव की हत्या करने वाले आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। यह आरोपी कोई और नही बल्कि मृतक का ही चचेरा भाई निकला। पुलिस के अनुसार हत्या पैसों के पुराने लेनदेन के चलते की गई थी। आरोपी के पास से 15 से 20 लाख रूपए के सोने चांदी के गहने और मोबाईल सहित नकदी रकम 2 लाख 81 हजार जब्त किया गया है। आरोपी के खिलाफ हत्या का मामला दर्जकर पुलिस आगे की कार्रवाई में जुट गई है।

बता दें कि बीते 22 मई को गुजराती कॉलोनी में श्याम रेसिडेंसी में रहने वाले विशेषज्ञ डॉक्टर प्रभाकर राव की अज्ञात लोगों द्वारा हत्या कर दी गयी थी। डॉक्टर की लाश बाथरूम में लहूलुहान हालत में पड़ी थी। जिसके बाद इसकी सूचना सिटी कोतवाली पुलिस को दी गई, मौके पर पहुंची पुलिस ने घटनास्थल का मुआयना किया और फॉरेंसिक टीम को भी जांच में मदद ली गई।

डॉ प्रभाकर दंतेवाड़ा के रहने वाले थे जो साल भर पहले धमतरी में शिफ्ट हुए थे। उनकी पत्नी की 2 साल पहले मृत्यु हो चुकी है,इसके आलावा उनके दो बेटिया भी है जो कि उनके साथ नहीं रहती थी। इधर

घटना के बाद मौके का मुआयना करने और साक्ष्य के आधार पर पुलिस को शक था कि उनकी हत्या किसी जान पहचान वाले ने ही की होगी और पुलिस की जांच भी इसी दिशा में आगे बढ़ी। वही एक सप्ताह बाद आखिरकार पुलिस के हाथ कातिल के गिरेबान तक पहुंच ही गए।पुलिस के सख्ती से पूछताछ बाद आरोपी चचेरे भाई अपना गुनाह कबूल कर लिया।

पुलिस के मुताबिक ये हत्या पैसों के पुराने लेनदेन के चलते की गई। दरअसल आरोपी चचेरे भाई विशाल वाघटकर ने प्रापर्टी में इनवेस्ट करने के नाम पर डॉ. प्रभाकर राव को 12 लाख 50 हजार रूपए दिए थे और घटना के दो दिन पहले पैसों को वापस लेने आरोपी धमतरी पहुंचा हुआ था। लेकिन यहां पैसों को लेकर दोनों भाइयों के बीच जमकर विवाद हो गया और डॉ. प्रभाकर राव ने आरोपी को डांट फटकार वापस भेज दिया था।

जिसके बाद आरोपी विशाल वाघटकर ने उन्हे जान से मारने की योजना बनाई और योजना के मुताबिक वह कोरबा से रायपुर आकर अपने दोस्त से बाईक लेकर सीधे धमतरी पहुंचा। देर शाम डॉ. प्रभाकर राव के घर पहुंचा जहां पैसों को लेकर दोनों में फिर विवाद हुआ और गुस्से में आकर आरोपी ने अपने बैग में रखे चाकू से डॉ. प्रभाकर राव पर ताबड़तोड़ हमला कर दिया। बाद इसके घायल डॉ. प्रभाकर राव को बाथरूम में बंद कर दिया और खून से सने फर्श को साफ किया ताकि सबूत पुलिस के हाथ न लगे। इसके बाद आलमारी को तोड़कर पैसे सहित सोने के गहने अपने पास रख लिया। घटना के बाद आरोपी रातभर उसी घर में रहा और जैसे ही सुबह हुई वह रायपुर निकल गया। इस बीच आरोपी ने एक नाले में चाकू को फेंक दिया।

पुलिस के अनुसार आरोपी विशाल और मृतक डॉ.प्रभाकर राव के बीच व्यवसायिक मामलों को लेकर बातचीत होती थी। वही आरोपी के पिता सीएसईबी कोरबा में भृत्य थे। सेवानिवृत्त होने के बाद उन्हे अलग अलग किश्तों में 30 लाख रू मिले थे और इसी में से आरोपी ने डॉ.प्रभाकर राव को 12 लाख रूपए दिए थे। जबकि बाकी पैसे अपने उसने खर्च कर डाले थे।