Home व्यापार पीएनबी का एनपीए की वजह से हाल बेहाल, 9,975 करोड़ का घाटा

पीएनबी का एनपीए की वजह से हाल बेहाल, 9,975 करोड़ का घाटा

नईदिल्ली, सार्वजनिक क्षेत्र के दूसरे सबसे बडे बैंक पंजाब नेशनल बैंक को अपने वित्त वर्ष 2018-19 में बैंक को तकरीबन 12,995 करोड़ का परिचालन लाभ हासिल किया जब कि वहीं दूसरी ओर बैंक को 9,975 करोड़ का बडा घाटा उठााना पड़ा है जिसकी वजह से पीएनबी बैंक को भारी फंसे कर्ज के चलते उसे तकरीबन […]

110
पीएनबी
पीएनबी

नईदिल्ली, सार्वजनिक क्षेत्र के दूसरे सबसे बडे बैंक पंजाब नेशनल बैंक को अपने वित्त वर्ष 2018-19 में बैंक को तकरीबन 12,995 करोड़ का परिचालन लाभ हासिल किया जब कि वहीं दूसरी ओर बैंक को 9,975 करोड़ का बडा घाटा उठााना पड़ा है जिसकी वजह से पीएनबी बैंक को भारी फंसे कर्ज के चलते उसे तकरीबन 22,971 करोड़ रुपये की प्रोविजनिंग करनी पड गई है।

साल 2018-19 में सकल घरेलू कारोबार में करीब 11.1 फीसदी, घरेलू अग्रिम कारोबार में करीब 14.1 फीसदी की वृदि के साथ वैश्विक जमा में 5.3 फीसदी वहीं बचत तथा चालू खाते में जमा में करीब 8.3 फीसदी की वृधि हुई है। वहीं परिचालन लाभ में 26.2 फीसदी का इजाफा सहित ब्याज आय में भी तकरीबन 6.9 फीसदी का लाभ हुआ है।
गोरतलब है कि पिछले साल बैंक को 13,417 करोड की चपत बैंक में हुए घोटाले की वजह से लगी थी जिसकी वजह से बैंक का घाटा भी काफी बढ गया था।

ग्रॅास, नेट एनपीए में हुआ सुधार- पिछली तिमाही के आधार पर एनपीए में सूधार दर्ज किया है, जो पिछली तिमाही के 16.33 फीसदी के मुकाबले चौथी तिमाही में यह करीब 15.5 फीसदी रहा। जब कि नेट एनपीए में भी 8.22 फीसदी के मुकाबले 6.56 फीसदी रहा है। आपको बता दें कि साल 2018 में मेहुल चैकसी और नीरव मोदी के द्वारा किए गये तकरीबन 11 हजार करोड रुपये के घोटाले के बाद से ही बैंक की हालत खस्ताहाल बनी हुई है।

पीएनबी के प्रबंध निदेशक एंव कार्यकारी अधिकारी सुनील मेहता के अनुसार घोटालो की वजह से ही बैंक की ऐसी हालत हुई है जिसको वापस सुधारने में बैंक को फिलहाल अभी थोडा समय और लगेगा। हांलाकि उन्होंने यह भी कहा कि पीएनबी ने अपने बेहतर प्रबंधन की बदौलत हुए घाटे को सीमित कर दिया है जो थोडे अंतराल के बाद पूर्णतया सीमित हो जायेगा।