Home जिले  Mungeli: प्रवासी मजदूर को दो दिन से था तेज बुखार, अस्पताल ले...

 Mungeli: प्रवासी मजदूर को दो दिन से था तेज बुखार, अस्पताल ले जाते वक्त रास्ते में टूटी सांसे

नवनीत शुक्ला@मुंगेली। जिले के ( Mungeli) सीतापुर क्वारंटाइन सेंटर में प्रवासी मजदूर की मौत हो गई। युवक की उम्र लगभग 25 वर्ष बताई जा रही है। जानकारी के मुताबिक मृतक 10 मई को हैदराबाद से लौटा था। Korba: 2 महीने बाद खुले रिर्जेवेशन काउंटर, मगर कोरबा वासियों के लिए ये नियम जरूरी जिसके बाद उसे […]

 Mungeli
 Mungeli

नवनीत शुक्ला@मुंगेली। जिले के ( Mungeli) सीतापुर क्वारंटाइन सेंटर में प्रवासी मजदूर की मौत हो गई। युवक की उम्र लगभग 25 वर्ष बताई जा रही है।

जानकारी के मुताबिक मृतक 10 मई को हैदराबाद से लौटा था।

Korba: 2 महीने बाद खुले रिर्जेवेशन काउंटर, मगर कोरबा वासियों के लिए ये नियम जरूरी

जिसके बाद उसे सीतापुर क्वारंटाइन सेंटर में रखा गया था।

लेकिन आज मजदूर की तबियत अचानक बिगड़ गई।

Corona: भगवान जगन्नाथ और क्वारंटाइन, आप भी जाने इसके पीछे का रहस्य, देखें

मजूदर को दो दिन से तेज बुखार था।

तबियत बिगड़ता देख मजदूर को जिला अस्पताल ( Mungeli) में इलाज के लिए भेजा गया। मजदूर के लिए एंबुलेंस का भी व्यवस्था नहीं की गई थी।

Corona update: भारत में 24 घंटे के भीतर 6 हजार से अधिक केस, 137 लोगों की मौत

वहां मौजदू लोग उसे ऑटो से जिला चिकित्सालय ( Mungeli) ला रहे थे।

इस बीच 25 वर्षीय मजदूर ने रास्ते में दम तोड़ दिया।

अस्पताल पहुंचते ही डॉक्टरों ने प्रवासी मजदूर को मृत घोषित कर दिया।

वहीं प्रवासी मजदूर का कोरोना जांच भी हुआ था, रिपोर्ट निगेटिव आई थी।

इस बीच प्रशासन की बड़ी लापरवाही उजागर हुई है।

क्वारंटाइन सेंटर में प्रवासी मजदूर की मौत का यह दूसरा मामला है।

इससे पहले मुंगेली ब्लॉक के दूसरे क्वारंटाइन सेंटर में युवक को तड़के जहरीले सांप ने कांट लिया था।

जिससे 28 वर्षीय युवक की मौत हो गई थी। प्रवासी मजदूर की मौत के बाद प्रशासन सवालों के घेरे में था।

प्रवासी मजदूर महाराष्ट्र के पुणे से अपनी पत्नी के साथ लौटा था।

गांव के क्वारंटाइन सेंटर में 14 दिनों के क्वारंटीन था।