Home राजनीति सारकेगुडा मामले में सीएम भूपेश का बयान, कहा, विधि विभाग से बात...

सारकेगुडा मामले में सीएम भूपेश का बयान, कहा, विधि विभाग से बात हुई है, जल्द कार्यवाही होगी

रायपुर। प्रदेश में भूपेश सरकार को बने एक साल पुरे हुए। इस मौके पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राजीव भवन में प्रेसवार्ता बुलाई। इस दौरान भूपेश बघेल ने अपने एक साल के कार्यकाल की उपलब्धियां गिनवाई और कहा कि हमने जो कहा वो किया। किसानों से कर्जा माफ़ी का वादा हमने किया था, हमने कर्ज […]

रायपुर। प्रदेश में भूपेश सरकार को बने एक साल पुरे हुए। इस मौके पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राजीव भवन में प्रेसवार्ता बुलाई। इस दौरान भूपेश बघेल ने अपने एक साल के कार्यकाल की उपलब्धियां गिनवाई और कहा कि हमने जो कहा वो किया। किसानों से कर्जा माफ़ी का वादा हमने किया था, हमने कर्ज माफ़ी की, हमने आदिवासियों से जमीन वापस करने की बात की थी, हमने किया।

मुख्यमंत्री भूपेश ने पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए कहा  कि हम शराबबंदी लागू करेंगे पर इसका तरीक़ा नोटबंदी की तरह नहीं होगा.. शराबबंदी को लेकर जो भाजपा आरोप लगा रही है वह केवल राजनीति कर रही है..सात राज्यों से जुड़ा हमारा प्रदेश है.. एकदम से बंद कर देंगे और दूसरे नशे की तरफ़ बढ़ गए तो ..भाजपा को केवल राजनीति करनी है.. हमने कहा शराबबंदी के लिए समिति में शामिल होईए.. नहीं आए.. धान के मसले किसान के मसले पर आईए तो आने के बजाय निमंत्रण का तरीक़ा बताने लगे…हम अध्ययन कर रहे हैं.. जिन राज्यों में लागू किया पर वापस लिया तो क्यों लिया, और जहां शराबबंदी हुई और जारी रही तो कैसे रही.. यह सब का अध्ययन हो रहा है” ।

बस्तर के सारकेगुड़ा प्रकरण की न्यायिक जाँच रिपोर्ट पर कार्यवाही को लेकर आए सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा- “हमने पूरे मामले में विधि विभाग से रिपोर्ट माँगी है..जैसे ही वह अपनी सिफ़ारिशें देंगे। हम कार्यवाही करेंगे.. हम किसी दोषी को नहीं बख्शेंगे” ।

प्रदेश में धान ख़रीदी केंद्रों में किसानों के परेशान होने और ख़रीदी केंद्रों पर सरकारी अमले द्वारा नित नए नियमों से हो रही परेशानी के सवाल को ख़ारिज करते हुए मुख्यमंत्री बघेल ने कहा धान ख़रीदी योजना हमारे राज्य के किसानों के लिए है, सरकार उनका धान ख़रीदने के लिए संकल्पित है, लेकिन हम बाहरी प्रदेशों का धान नहीं ख़रीदेंगे। कड़ाई हो रही है इसलिए ही बाहरी प्रदेश का धान बड़ी मात्रा में पकड़ा रहा है। अब जब कड़ाई होगी तो थोड़ी बहुत परेशानी सबको होती है” ।