Home क्राईम मानव तस्करी के फिराक में था आरोपी..ऐसे चढ़ा पुलिस के हत्थे..बाल-बाल बची...

मानव तस्करी के फिराक में था आरोपी..ऐसे चढ़ा पुलिस के हत्थे..बाल-बाल बची 1 युवती समेत 3 नाबालिगों की जिंदगी..पढ़िए

उपेन्द्र त्रिपाठी@बिलासपुर/मस्तूरी। मस्तूरी पुलिस की सतर्कता से 1 युवती समेत 3 नाबालिगों की जिंदगी बर्बाद होने से बच गई। दरअसल मस्तूरी थाने में एक प्रार्थी ने शिकायत दर्ज कराई थी कि उसकी बहन सहित गाँव से तीन लड़कियाँ गायब हो गई है। जिसके पीछे कोटमीसोनार निवासी दयानन्द सोनी का हाथ हो सकता है। प्रार्थी की […]

मानव तस्करी के फिराक में था आरोपी..ऐसे चढ़ा पुलिस के हत्थे..बाल-बाल बची 1 युवती समेत 3 नाबालिगों की जिंदगी..पढ़िए

उपेन्द्र त्रिपाठी@बिलासपुर/मस्तूरी। मस्तूरी पुलिस की सतर्कता से 1 युवती समेत 3 नाबालिगों की जिंदगी बर्बाद होने से बच गई। दरअसल मस्तूरी थाने में एक प्रार्थी ने शिकायत दर्ज कराई थी कि उसकी बहन सहित गाँव से तीन लड़कियाँ गायब हो गई है।

जिसके पीछे कोटमीसोनार निवासी दयानन्द सोनी का हाथ हो सकता है। प्रार्थी की शिकायत पर मस्तूरी थाना प्रभारी फैजुल शाह ने गंभीरता दिखाते हुए तत्काल उच्च अधिकारियों को घटना की जानकारी देते हुए उनके मार्गदर्शन में गायब युवतियों की पतासाजी शुरू की। साथ ही संदेही के विषय मे भी जानकारी जुटाई गई। जिनसे पता चला कि आरोपी युवक दयानंद सोनी दो दिनों पूर्व गांव में आया था और युवतियों से मिला था।

जिसने उन्हें काम दिलाने के लिए बाहर ले जाने का प्रलोभन दिया था। जिसके दो दिनों बाद ही गाँव की चार युवतियां गायब हो गई। स्थानीय जानकारी जुटाने के साथ ही पुलिस ने तकनीकी सूचना के आधार पर आरोपी की तलाश शुरू की। शिकायत के 10 घंटो के भीतर ही आरोपी को चारों युवतियों सहित बिलासपुर बस स्टैंड में पकड़ लिया गया।

जिसे हिरासत में लेकर पूछताछ की गई तो उसने बताया कि वह पूर्व में नागपुर में काम कर चुका है। लिहाजा वहां काम करने के लिए युवतियों को ले जा रहा था। जहां ले जाकर वह युवतियों को बेंच देने और उसके बदले उसे कमीशन मिल जाता। पुलिस की सक्रियता से सभी पहलुओं पर जांच के आरोपित को जिले से बाहर भागने से पहले ही पकड़ लिया गया। जिससे चार मासूमों की जिंदगी बर्बाद होने से बच गई।