Home क्राईम फर्जी दस्तावेजों के सहारे करता रहा शिक्षाकर्मी की नौकरी, ऐसे हुआ मामले...

फर्जी दस्तावेजों के सहारे करता रहा शिक्षाकर्मी की नौकरी, ऐसे हुआ मामले का पर्दाफाश…

हेमंत पटेल@जांजगीर चांपा. जिले में जाली मार्कशीट के आधार पर नौकरी पाने वाला फर्जी शिक्षकर्मी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी ने कक्षा बारहवीं की फर्जी अंकसूची और खेल का फर्जी प्रमाण पत्र बनवाकर नौकरी पाई थी। मामला जांजगीर चांपा जिले के हसौद थाना क्षेत्र के गांव मरघटी का है जहां रहने वाले […]

809

हेमंत पटेल@जांजगीर चांपा. जिले में जाली मार्कशीट के आधार पर नौकरी पाने वाला फर्जी शिक्षकर्मी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी ने कक्षा बारहवीं की फर्जी अंकसूची और खेल का फर्जी प्रमाण पत्र बनवाकर नौकरी पाई थी।

मामला जांजगीर चांपा जिले के हसौद थाना क्षेत्र के गांव मरघटी का है जहां रहने वाले युवक चितरंजन प्रसाद कश्यप ने फर्जी प्रमाण पत्रों के सहारे शिक्षाकर्मी वर्ग 3 की नौकरी प्राप्त कर ली थी। उसने नौकरी पाने के लिए बारहवीं की फर्जी अंकसूची और खेल का जाली प्रमाण पत्र बनवाया था।

इन्ही फर्जी दस्तावेजों के आधार पर उसने वर्ष 2007 में कोरबा जिले में निकली शिक्षाकर्मी की भर्ती में आवेदन किया और उसे नौकरी भी मिल गई। जिसके बाद चितरंजन के खिलाफ फर्जी प्रमाण पत्र के सहारे नौकरी पाने की शिकायत हसौद थाने में की गई।

पुलिस ने जांच कर शिकायत सही पाए जाने पर चितरंजन के खिलाफ अपराध दर्ज किया, लेकिन इसके बाद से वह फरार हो गया था। पुलिस उसकी पतासाजी में जुटी हुई थी। इसी दौरान मुखबिर से जानकारी मिली कि चितरंजन ग्राम मरघटी में अपने घर में छिप कर रह रहा है। पुलिस की टीम ने मौके पर दबिश देकर उसे गिरफ्तार कर लिया है। जिसके बाद पुलिस अब नकली मार्कशीट बनाने वालों की पतासाजी में जुट गई है।