Home देश - विदेश हैदराबाद डॉक्टर रेप-हत्या केस: संसद में उठा मामला, जया बच्चन बोली- सरकार...

हैदराबाद डॉक्टर रेप-हत्या केस: संसद में उठा मामला, जया बच्चन बोली- सरकार महिलाओं को सुरक्षा नहीं दे सकती.. तो गुनहगारों को करें जनता के हवाले

नई दिल्ली. हैदराबाद में एक डॉक्टर के साथ सामूहिक बलात्कार और फिर उसकी हत्या के मामले की गूंज आज राज्यसभा में भी सुनाई दी. समाजवादी पार्टी सांसद जया बच्चन ने कहा कि अगर सरकार महिलाओं को सुरक्षा नहीं दे सकती तो ऐसे गुनहगारों को जनता के हवाले कर दिया जाना चाहिए. उनका कहना था, ‘बलात्कार […]

भिलाई। निकाय चुनाव के लिए सबकुछ तैयारी अंतिम चरण पर है। दुर्ग में टिकट को लेकर बवाल हो रहा है। वहां कांग्रेसी आपस में ही भिड़ रहे है। एक-दूसरे की टिकट काटने की धमकी दे रहा है। हम ये बात यूं ही नहीं कह रहे। दुर्ग से एक वीडियो वायरल हुआ है। जिसमें दुर्ग शहर विधायक अरुण वोरा दिख रहे हैं। उनके सामने पार्षद अब्दुल गनी खान और पूर्व पार्षद विसेंट डिसूजा दिख रहे हैं। विधायक अरुण वोरा के पद्मनाभपुर स्थित घर पर तकियापार वार्ड से पार्षद अब्दुल गनी व वहीं के पूर्व पार्षद विंसेंट डिसूजा आपस में भिड़ पड़े। कार्यकर्ताओं के बीच ही दोनों में जमकर तू-तू मैं-मैं हो गई। दोनों ने एक-दूसरे पर जमकर आरोप-प्रत्यारोप लगाए। बाद में वोरा ने उन्हें शांत कराया। दैनिक भास्कर ने खबर प्रकाशित करते हुए बताया है कि, विधायक अरुण वोरा पिछले करीब 4 दिनों से शहर से बाहर रहे। रविवार को जैसे ही उनके आने की खबर पहुंची। सुबह आवेदन लेकर दावेदारों का पहुंचना शुरू हो गया। इस बीच वार्ड-8 से विंसेंट डिसूजा ने भी आवेदन किया। मौके पर वहां से पार्षद अब्दुल गनी भी मौजूद थे। कथित रूप से हुए कटाक्ष के बाद पुरानी बातों व हारजीत को लेकर तू-तू-मैं-मैं शुरू हो गई। गनी ने इसे सीनियर नेताओं को अपमान बताया।

नई दिल्ली. हैदराबाद में एक डॉक्टर के साथ सामूहिक बलात्कार और फिर उसकी हत्या के मामले की गूंज आज राज्यसभा में भी सुनाई दी. समाजवादी पार्टी सांसद जया बच्चन ने कहा कि अगर सरकार महिलाओं को सुरक्षा नहीं दे सकती तो ऐसे गुनहगारों को जनता के हवाले कर दिया जाना चाहिए. उनका कहना था, ‘बलात्कार के दोषियों के साथ किसी तरह की नरमी नहीं की जानी चाहिए. उन्हें सख्त सजा दी जानी चाहिए और उनके खिलाफ कार्रवाई सार्वजनिक तौर पर होनी चाहिए.’

उधर, कांग्रेस के मोहम्मद अली खान ने कहा कि बलात्कार के दोषियों के खिलाफ सुनवाई की समय सीमा तय की जानी चाहिए. उनका यह भी कहना था कि सुनवाई फास्ट ट्रैक अदालतों में होनी चाहिए और इस तरह की घटनाओं को सांप्रदायिक रंग नहीं दिया जाना चाहिए. आरजेडी के प्रो मनोज कुमार झा ने कहा, ‘इस तरह की दरिंदगी की घटनाओं पर राजनीतिक रुख नहीं रखा जाना चाहिए. ऐसी घटनाएं मानसिकता का भी सवाल उठाती हैं.’

भाजपा के आर के सिन्हा ने कहा, ‘आए दिन, देश के विभिन्न हिस्सों से इस तरह की घटनाओं की खबरें सुनने को मिलती हैं. आखिर हमारे संस्कार और शिक्षा कहां हैं?’ उनका आगे कहना था, ‘हमारी कानून-व्यवस्था ऐसी है कि मामले की सुनवाई के बाद मृत्युदंड की सजा सुनाई जाती है और फिर अपीलों तथा दया याचिका का सिलसिला चल पड़ता है. निर्भया के मामले में यही हुआ.’ …