Uncategorized

Gariyaband: सुपेबेड़ा पंचायत में 25 दिनों से पंचायती कामकाज ठप, 25 दिन पहले प्रभार लेने वाला सचिव अब तक नहीं पहुँचा पंचायत,सचिव को हटाने सरपंच ने जनपद सीईओ को सौंपा आवेदन

रवि तिवारी@देवभोग। (Gariyaband) किडनी प्रभावित गॉव सुपेबेड़ा हमेशा से सुर्खियों में रहा हैं। इस बार सुपेबेड़ा फिर से सुर्खियों में हैं। इस बार सुर्खियां बटोरने का कारण किडनी की बीमारी नहीं बल्कि महीने भर से पंचायत का कामकाज ठप्प होने से शासन-प्रशासन पर उठ रहे सवालों के कारण हैं। जी हां पंचायत में 25 दिन  पहले सचिव के द्वारा प्रभार लेकर नदारद रहने के कारण पंचायत का कामकाज ठप्प हो गया हैं। पंचायत की सरपंच चन्द्रकला मसरा के मुताबिक 17 सितम्बर को निवर्तमान सचिव देवीलाल सोनवानी ने ओमप्रकाश ध्रुव को प्रभार सौंपा था। सरपंच के मुताबिक प्रभार लेने के बाद ओमप्रकाश ध्रुव ने अगले दिन पंचायत की बैठक रखकर पंचायती कामकाज के लिए चर्चा करने की बात कही। (Gariyaband) वहीं बैठक रखने की बात कहकर सचिव अगले दिन से पंचायत से नदारद हो गया। सरपंच चन्द्रकला मसरा बताती हैं कि सचिव ओमप्रकाश ध्रुव पंचायती कामकाज में रुचि नहीं ले रहा हैं। (Gariyaband) उन्होंने मामले में देवभोग सीईओ मनहर लाल मंडावी को आवेदन कर सचिव को हटाने की मांग की हैं।

School में चपरासी का ‘भूत’, क्लास में घुसते ही बेहोश हो जाती हैं लड़कियां

ये कामकाज हो रहे प्रभावित

सरपंच चन्द्रकला मसरा ने बताया कि जाति,निवास,आय प्रमाण पत्र स्कूल के बच्चों को समय पर नहीं मिल पा रहा है। वहीं दो महीने से पेंशन की राशि का आहरण नहीं हो पाया हैं। सरपंच ने बताया कि राज्य की भूपेश सरकार की महत्वपूर्ण योजना राजीव गांधी कृषि मजदूर भूमिहीन न्याय योजना के तहत भूमिहीन परिवारों का पंजीयन किया जाना हैं लेकिन सचिव के अनुपस्थित रहने के कारण अब तक  गॉव में इस योजना के चलते पंजीयन का कार्य भी बहुत ज्यादा प्रभावित हो गया हैं। वहीं पिछड़ा वर्ग का सर्वे का काम भी प्रभावित हो गया हैं। वहीं शासन की अन्य महत्वपूर्ण योजना की जानकारी भी सचिव की अनुपस्थिति के चलते समय पर ग्रामीणों तक नहीं पहुँच पा रही हैं।

भेज चुके हैं प्रस्ताव

(Gariyaband) देवभोग जनपद सीईओ मनहर लाल मंडावी ने बताया कि सरपंच ने आवेदन देकर जानकारी दी हैं कि सचिव ओमप्रकाश ध्रुव ने प्रभार तो ले लिया हैं, लेकिन वे पंचायती कामकाज में रुचि नहीं ले रहे हैं। ऐसे में सरपंच से मिले आवेदन के आधार पर सचिव को हटाने के लिए प्रस्ताव उच्च कार्यालय को भेजा जा चुका हैं।

मामले में जिला पंचायत सीईओ संदीप अग्रवाल ने कहा कि वे मामले की पूरी जानकारी लेंगे,इसके बाद जल्द ही उचित कार्रवाई भी करेंगे।

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: