धमतरी

Dhamtari: क्या खनिज विभाग का नियंत्रण कागजों तक है सीमित….तो देखे ये वीडियो….खुल जाएगा सारा पोल

संदेश गुप्ता@धमतरी। (Dhamtari) जिले का खनिज विभाग कितना भी बदनाम रहा हो। लेकिन फिर भी अधिकारियों का नियंत्रण हमेशा से रहा है। अब पहली बार ये देखने मे आ रहा है कि कार्यालय से जो आदेश या निर्णय जारी किये जा रहे है, उनका जमीन पर रत्ती भर भी पालन नही हो रहा है।

Gariyaband: आखिर क्यों जारी करना पड़ा जिला पंचायत सीईओ को बड़ा आदेश?

(Dhamtari) यहाँ हम विवादास्पद हो चुके चारभाठा रेत खदान के हवाले से बात कर रहे हैं। इस खदान में केवल एक महीना काम चलने के बाद ही पार्टनरों में विवाद और झगड़ा इतना बढ़ गया कि, मामला थाने तक जा चुका है।

(Dhamtari) एक दूसरे के खिलाफ शिकायते और फील्डिंग हर मोर्चे पर जारी है। इस इस तनाव के कारण गाँव की शांति भंग होने का खतरा पैदा हो गया है। खदान पर नियंत्रण के लिए दोनों पक्ष किसी भी हद तक जा सकते हैं।

Raipur: संकल्प शिक्षण संस्थान पहुंचे सीएम, विद्यार्थियों को लैपटॉप देकर किया प्रोत्साहित

इस आशंका के मद्देनजर खनिज विभाग ने, चारभाठा खदान को अस्थाई रूप से बंद करने का निर्णय लिया। 3 दिसंबर की दोपहर को जिला खनिज अधिकारी ने अपनी टीम भेजकर चारभाठा खदान को बंद करवाने का आदेश जारी किया था।

लेकिन यह खदान बंद होना तो दूर 5 तारीख की दोपहर तक भी बदस्तूर चालू रहा लगातार रेत का खनन और निकासी होती रही।

इस मामले में हमने जब जिला खनिज अधिकारी सनत साहू से बात की और खदान के चालू रहने पर सवाल पूछा तो उन्होंने कहा कि मैंने तो बंद करवा दिया था, देखता हूं अभी क्या स्थिति है ऐसे में कई सवाल पैदा होते हैं?

मसलन क्या खनिज विभाग की टीम अपने अधिकारी को गलत रिपोर्ट करती है..??

क्या जमीनी हकीकत से आला अफसरों को अनजान रखा जाता है..?? क्या रेत ठेकेदार सरकारी आदेश मानना जरूरी नही समझते..?? या फिर खनिज विभाग का किसी भी चीज पर हकीकत में कोई नियंत्रण नही है सब कुछ कागजो तक ही सीमित है..??

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: