Home हमर प्रदेश (छत्तीसगढ़) डेवलपमेंट एरर ने खोली चिप्स के दावों की पोल, लापरवाही को लेकर...

डेवलपमेंट एरर ने खोली चिप्स के दावों की पोल, लापरवाही को लेकर हुआ बड़ा खुलासा

रायपुर. छत्तीसगढ़ इन्फोटेक प्रोमोशन सोसाइटी यानी कि चिप्स की एक के बाद एक लापरवाहियां सामने आती जा रही हैं । पिछले कुछ वर्षों में सीएमओ ,पीडब्ल्यूडी, सीजीपुलिस और एनआईटी की वेबसाइट हैक होने की खबरें आईं जिसके बाद अब व्यापम की परीक्षा के ऐन वक्त पर सर्वर का डाउन होना । इतना ही नही परीक्षा […]

117

रायपुर. छत्तीसगढ़ इन्फोटेक प्रोमोशन सोसाइटी यानी कि चिप्स की एक के बाद एक लापरवाहियां सामने आती जा रही हैं । पिछले कुछ वर्षों में सीएमओ ,पीडब्ल्यूडी, सीजीपुलिस और एनआईटी की वेबसाइट हैक होने की खबरें आईं जिसके बाद अब व्यापम की परीक्षा के ऐन वक्त पर सर्वर का डाउन होना । इतना ही नही परीक्षा की तिथि आगे बढ़ा देने के बाद परीक्षार्थी अपना प्रवेशपत्र भी ठीक से डाउनलोड नही कर पाने की जब शिकायतें करने लगे तो फिर से एडमिट कार्ड डाउनलोड करने की तिथि को आगे बढ़ाया गया । हर बार एक नया बहाना लेकिन लापरवाही बहानों के बाद भी साफ झलकती रही । अब इस गलती के लिए क्या बहाने करेगी चिप्स ?

साइबर एक्सपर्ट मोनाली गुहा ने किया एक और बड़ा खुलासा, डेवलपमेंट एरर ने खोली चिप्स के दावों की पोल

छत्तीसगढ़ प्रशासन अकेडमी निमोरा की आधिकारिक वेबसाइट cgaoa.gov.in में शुरू से ही डेवलपमेंट एरर्स हैं ,यानी कि जिस समय इस वेबसाइट को बनाया गया होगा उसी समय से वेबसाइट की कोडिंग में लापरवाही बरती गई। जिसे अब तक ठीक नही किया गया है। इसके अलावा लंबे समय से प्रशासन अकेडमी में होने वाले इवेंट्स की जानकारी एवम तस्वीरें भी अपलोड नही की गई हैं साथ ही जो जानकारियां डॉक्युमेंट्स के फॉर्म में अपलोड की गई थी वो भी ओपन करने पर नॉट अवेलेबल शो हो रही हैं। यानी कि या तो डेटाबेस कनेक्शन ठीक तरह से नही किया गया है या फिर ये फाइलें ही डेटाबेस से गायब हैं। वहीं ये वेबसाइट्स सिक्योर भी नहीं हैं, साइबर फोरेंसिक एक्सपर्ट मोनाली गुहा ने बताया कि डॉस ,डी डॉस अटैक , एसक्यूएल इंजेक्शन, क्रॉस साइट स्क्रिप्टिंग XSS आदि वेबसाइट हैकिंग अटैक्स से ऐसी वेबसाइट आसानी से कॉम्प्रोमाइज़्ड हो सकती हैं ।

वहीं लाइब्रेरी के लिए अपना पेज डेवेलोप करने की बजाय एक दूसरी वेबसाइट पर रीडायरेक्ट कर काम मे कोताही बरती गई है , जो  http://caalibrary.comeze.com/library/ जो कि एक प्राइवेट वेबपेज है। डेवलपमेंट एरर का इतने लंबे समय तक बने रहना साफ दर्शाता है कि न ही कभी वेबसाइट को चेक किया गया न ही कभी किसी अधिकारी ने इस ओर ध्यान दिया । ऐसे में ज़रूरत है कि राज्य के सभी विभागों की वेबसाइट का सिक्योरिटी ऑडिट एवम परफॉर्मेंस एफिशिएंसी टेस्ट एक्सपीरिएंसड साइबर फोरेंसिक एक्सपर्ट्स द्वारा करवाया जाए एवम तमाम इशूज को वक्त रहते संभाल लिया जाए अन्यथा अगर विदेशी हैकर्स की नज़र इनपर पड़ी तो छत्तीसगढ़ को बड़ा साइबर वॉर फेस करना पड़ सकता है ।