क्राईम

Crime: हत्या की गुत्थी को सुलझाने चौकी मल्हार एवं थाना मस्तुरी पुलिस को मिली सफलता, 24 घंटे के भीतर सुलझाया अंधे कत्ल की गुत्थी, पैसे की लेन-देन बनी हत्या की वजह

मनीष@बिलासपुर। (Crime) जिले के मल्हार चौकी थाना मस्तुरी पुलिस को सूचना मिली कि चौकी मल्हार अंतर्गत स्थित पुरातत्व विभाग का  छोटागढ़ किला में एक स्थान पर नयें खुदा हुआ गड्ढे जो की पटा  हुआ है,, जिसमें से सडन की दुर्गंध आ रही है।सूचना मिलने पर मौके पर मस्तुरी थाना के मल्हार चौकी पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित हुये उस स्थान को देखने पर कोई अज्ञात शव होने की शंका पर कार्यपालिक दण्डाधिकारी की उपस्थिति में स्थान का खुदाई कराया गया। (Crime) जिसमें करीब 02 फीट खोदने पर एक पुरुष मानव शव प्राप्त हुआ। जिसे वहां उपस्थित ग्रामीणों से पहचान कराया गया। जो शव को करीब 6-7 दिन पुराना होना तथा ग्राम मल्हार का दीपक लोहार पिता जगदीश विश्वकर्मा उम्र 26 वर्ष निवासी वार्ड कं. 04 मल्हार चौकी मल्हार थाना मस्तुरी जिला बिलासपुर के रूप में पहचान किये। मौके पर मर्ग कायम कर जांच पंचनामा कार्यवाही किया गया।

(Crime)  पकड़े गए आरोपियों के नाम मणीशंकर कैवर्त पिता स्व. उदय राम कैवर्त और दूसरा अजय कुमार भैना पिता उमेद राम मैना उम्र 22 वर्ष साकिन वार्ड क्रमांक 10 बरमदेव चौक मल्हार चौकी मल्हार थाना मस्तुरी  व 4 अन्य विधि से संघर्षरत् बालक। पुलिस ने मृतक के शव को पीएम हेतु भेजा गया। प्रकरण की गंभीरता को देखते हुये जिले के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक बिलासपुर दीपक झा के द्वारा मौके उपस्थित पुलिस अधिकारियों को बारीकी से जांच करने के निर्देश पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण रोहित झा के मार्गदर्शन में मौके पर उपस्थित पुलिस अनुविभागीय अधिकारी चकभाठा सृष्टि चंद्राकर, थाना प्रभारी मस्तुरी एवं चौकी प्रभारी मल्हार के द्वारा अपने स्टाफ के साथ प्रकरण की बारीकी से तहकीकात की गयी। मौके पर रक्षित केन्द्र से खोजी डाग स्क्वायड को बुलाकर आरोपी तक पहुंचने में डाग स्क्वायड की मदद ली गयी। जिसमें प्रथम दृष्टया मृतक दीपक को किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा किसी धारदार हथियार से हत्या कर शव को दफना देना पाये जाने से अज्ञात आरोपी के विरूद्ध अपराध धारा 302,201 भादवि का अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना की गयी । विवेचना के दौरान पता चला कि गांव के ही आरोपी मणीशंकर कैवर्त एवं अजय कुमार मैना तथा चार अन्य अपचारी बालक द्वारा पुरानी की लेन-देन की बात को लेकर मृतक को मारने योजना बनाकर योजनाबद्ध तरीके से धारदार हथियार से उसकी हत्या कर शव को दफना दिया गया था। जिसे पुलिस टीम द्वारा उक्त अंधे कत्ल की गुत्थी महज 24 घंटे की भीतर खुलासा कर प्रकरण के सभी आरोपी एवं अपचारियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

जिन्हे न्यायिक रिमांड में भेजा जा रहा है उक्त अंधेकत्ल की गुत्थी को सुलझाने में पुलिस अनुविभागीय अधिकारी सृष्टि चंद्राकर थाना प्रभारी मस्तुरी प्रकाश कांत, चौकी प्रभारी मल्हार शंकर गिरी गोस्वामी एवं सउनि हेमंत पाटले, हेमसागर पटेल प्र.आर अंजोर सिंह मरावी, आरक्षक संजय गोस्वामी,आशीष वस्त्रकार, संतोष पाटले, शैलेन्द्र कुर्रे, विदयासागर खटकर, अजय मधुकर, दुर्गेश यादव, रामस्नेही साहू एवं अन्य स्टाप का विशेष योगदान रहा ।

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: