Home मध्य प्रदेश भोपाल रेत स्टॉक मामला- कलेक्टर-एसडीएम के बीच जमकर हुआ विवाद, पद से हटाए...

रेत स्टॉक मामला- कलेक्टर-एसडीएम के बीच जमकर हुआ विवाद, पद से हटाए गए एसडीएम

डेस्क/भोपाल। मध्यप्रदेश में फिलहाल रेत माफियों का जोर थमता नहीं दिख रहा। होशंगाबाद के एसडीएम ने कहा कि रेत डंपरों पर कार्यवाही करने की वजह से कलेक्टर ने उन्हें एसडीएम पद से हटा दिया। इसके अलावा उन्हें तीन घंटे तक कलेक्टर बंगले में कैद रखा गया। जानकारी के मुताबिक एसडीएम रवीश श्रीवास्तव गुरूवार की रात […]

डेस्क/भोपाल। मध्यप्रदेश में फिलहाल रेत माफियों का जोर थमता नहीं दिख रहा। होशंगाबाद के एसडीएम ने कहा कि रेत डंपरों पर कार्यवाही करने की वजह से कलेक्टर ने उन्हें एसडीएम पद से हटा दिया। इसके अलावा उन्हें तीन घंटे तक कलेक्टर बंगले में कैद रखा गया।

जानकारी के मुताबिक एसडीएम रवीश श्रीवास्तव गुरूवार की रात रेत स्टॉक के बाहर खड़े डंपरों की जांच करने गए थे। एसडीएम ने खनिज विभाग के अधिकारियों को भी मौके पर बुलाया पर उनके आने से पहले कलेक्टर शीलेन्द्र सिंह का फोन आ गया और उन्हें तत्काल अपने बंगले बुला लिया।

एसडीएम रवीश श्रीवास्तव का कहना है कि पहले तो कलेक्टर ने उनसे ऑफिसर क्लब के फाईल की जानकारी मांगी, फिर उन्होंने भाजपा विधायक सीतासरन शर्मा के भतीजे वैभव शर्मा के रेत स्टॉक के बाहर खड़े डंपरों पर कार्यवाही पर सवाल पूछा। इस मामले को लेकर दोनों अधिकारियों के बीच जमकर तू-तू मैं-मैं हुई। एसडीएम का आरोप है कि इसके बाद कलेक्टर ने उन्हें पद से हटा दिया।

रवीश श्रीवास्तव द्वारा इस प्रकरण की लिखित शिकायत प्रमुख सचिव कार्मिक से करने के बाद मंत्रालय में हड़कंप मच गया। वहीं कलेक्टर ने भी पूरी रिपोर्ट कमीश्नर को भेज दिया है। दरअसल मध्यप्रदेश सरकार ने खनिज पोर्टल के लिए जो नियम बनाए हैं उसके मुताबिक शाम को पोर्टल को बंद कर दिया जाता है। लेकिन एसडीएम का आरोप है कि घटना के दिन कुलामाड़ी रेत स्टॉक के लिए खनिज पोर्टल रात तक खुला था और वहां 50 डंपर भी खेड़े थे।

उनका कहना है कि पूरे प्रदेश में खनिज पोर्टल बंद करने के बावजूद एक ही फर्म का काम चालू था और वो उसकी जांच करने के लिए गए हुए थे, और साहब की नाराज़गी का असली कारण यही था। वहीं इस मामले में मंत्री पीसी शर्मा ने इसे प्रशासनिक विफलता करार दिया है। साथ ही उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री से चर्चा कर इस पर आगे की कार्यवाही की जाएगी।