Home जिले रायपुर जनता की सेहतमंदी को लेकर पूर्व रमन सरकार कभी फिक्रमंद नहीं थी:...

जनता की सेहतमंदी को लेकर पूर्व रमन सरकार कभी फिक्रमंद नहीं थी: कांग्रेस

रायपुर, छत्तीसगढ़ में योग वाटिका का निर्माण नहीं हो पाने के लिए कांग्रेस ने पूर्व की रमन सरकार को जिम्मेदार ठहराया। छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि जनता की सेहतमंदी को लेकर पूर्व की रमन भाजपा की सरकार कभी फिक्रमंद नहीं थी। यही वजह है कि ग्राम पंचायतों एवं नगरीय निकाय […]

58
dhananjay
dhananjay

रायपुर, छत्तीसगढ़ में योग वाटिका का निर्माण नहीं हो पाने के लिए कांग्रेस ने पूर्व की रमन सरकार को जिम्मेदार ठहराया। छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि जनता की सेहतमंदी को लेकर पूर्व की रमन भाजपा की सरकार कभी फिक्रमंद नहीं थी। यही वजह है कि ग्राम पंचायतों एवं नगरीय निकाय क्षेत्रों में योग वाटिका के निर्माण के लिए राशि का आवंटन नहीं किया गया। रमन भाजपा ने योग को आम जनता के बीच सिर्फ अपनी राजनीति चमकाने का जरिया तक सीमित रखा है।

राज्य में योग आयोग का गठन कर भाजपा नेताओं को सदस्य बनाकर लाभान्वित किया गया। लेकिन योग के व्यापक प्रचार-प्रसार प्रशिक्षण पर ध्यान नही दिया गया। योग दिवस के दिन ही भाजपा नेता फ़ोटो खीचाते तक योग करते नजर आये। योग आयोग पूर्व की रमन सरकार की अन्य आयोग की तरह सफेद हाथी ही निकला। करोड़ो रूपये फूंकने के बाद भी योग आयोग जन-जन को योग के फायदे दिलाने में असमर्थ सिद्ध हुआ है।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस सरकार बनने के बाद अब योग के क्षेत्र में दिखावा नहीं वास्तविक काम होगा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल स्वयं योग के नियमित साधक हैं और भारत की प्राचीन गौरवशाली परंपराओं में विश्वास रखते है। पूर्व की रमन सरकार ने योग आयोग को भाजपा के मंडल कमेटी की तरह उपयोग किया। योग आयोग के माध्यम से लाखों रुपया खर्च कर हजार से अधिक मुख्य योग प्रशिक्षक एवं विकासखण्डों में 20 हजार से अधिक सह प्रशिक्षक तैयार किये गये थे जिन्हें भाजपा के चुनाव प्रचार-प्रसार में भाजपा के कार्यकर्ताओं की तरह उपयोग किया गया। योग आयोग अपनी मूल भूमिका से परे हटकर मात्र आरएसएस भाजपा की अनुवांशिक संगठन की तरह काम कर रही थी। योग आयोग अपनी भूमिका का निर्वहन करता तो गांव-गांव योग से निरोगी होता।