Home हमर प्रदेश (छत्तीसगढ़) हॉकी खिलाड़ियों को मुख्यमंत्री बघेल का तोहफा, अब जशपुर में भी बनेगा...

हॉकी खिलाड़ियों को मुख्यमंत्री बघेल का तोहफा, अब जशपुर में भी बनेगा एस्ट्रोटर्फ मैदान

रायपुर. हॉकी की नर्सरी के नाम से विख्यात प्रदेश के आदिवासी बहुल जशपुर अंचल में हॉकी खिलाड़ियों को जल्द ही एस्ट्रोटर्फ मैदान की सुविधा मिलेगी। खिलाड़ियों को यह तोहफा मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की पहल पर मिलने जा रहा है। मुख्यमंत्री ने सरगुजा विकास प्राधिकरण की बैठक में अधिकारियों को जशपुर में हॉकी खेल के लिए […]

137
hockey ground

रायपुर. हॉकी की नर्सरी के नाम से विख्यात प्रदेश के आदिवासी बहुल जशपुर अंचल में हॉकी खिलाड़ियों को जल्द ही एस्ट्रोटर्फ मैदान की सुविधा मिलेगी। खिलाड़ियों को यह तोहफा मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की पहल पर मिलने जा रहा है। मुख्यमंत्री ने सरगुजा विकास प्राधिकरण की बैठक में अधिकारियों को जशपुर में हॉकी खेल के लिए जल्द एस्ट्रोटर्फ लगाने की कार्रवाई के लिए निर्देशित किया है। जशपुर विधायक विनय कुमार भगत ने अम्बिकापुर में आयोजित सरगुजा विकास प्राधिकरण की बैठक में जशपुर जिले में एस्ट्रोटर्फ सहित विभिन्न मुद्दों को प्रमुखता से उठाया था। जिस पर मुख्यमंत्री बघेल ने आवश्यक कार्रवाई करने को कहा है।

विधायक भगत ने बैठक में मुख्यमंत्री को जानकारी दी कि जशपुर में हॉकी खिलाड़ियों के लिए एस्ट्रोटर्फ निर्माण की स्वीकृति 2018 में मिल चुकी है लेकिन अब तक इसका काम शुरू नहीं हुआ है। भगत ने बताया कि इस अंचल ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर के कई खिलाड़ी देश को दिए हैं। मुख्यमंत्री ने इसे गम्भीरता से लेते हुए अधिकारियों को तत्काल एस्ट्रोटर्फ का काम शुरू करने के निर्देश दिए हैं।

इसी तरह भगत ने जशपुर जिले के बादलखोल अभ्यारण्य में वनों की अवैध कटाई का मुद्दा भी प्रमुखता से उठा। उन्होंने बताया कि इस अभ्यारण्य की देखरेख वनमंडलाधिकारी सरगुजा के अधिकार क्षेत्र में होने के कारण यहां अवैध कटाई की रोकथाम नहीं हो पा रही है। इस अभ्यारण्य के लिए अलग से वनमंडलाधिकारी नियुक्त करने की मांग उन्होंने की। इस पर मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को आवश्यक कार्रवाई करने के लिए निर्देश दिए है।

भगत ने यह भी मांग की कि जिला खनिज न्यास निधि डी.एम.एफ की राशि को निर्माण कार्यों की बजाए शिक्षा, स्वास्थ्य और पोषण आहार जैसे जरूरी मुद्दों पर खर्च किया जाना चाहिए, जिस पर मुख्यमंत्री बघेल ने अधिकारियों को कार्ययोजना बनाने को कहा है।

भगत ने बैठक में अनुसूचित जनजाति वर्ग के लोगों के जाति प्रमाण पत्र बनाने में आ रही दिक्कतों और ग्रामीण इलाकों में बिजली की समस्या को भी प्रमुखता से उठाया जिस पर मुख्यमंत्री न जल्द कार्रवाई करने का भरोसा दिलाया है।