छत्तीसगढ़

Chhattisgarh: रामविचार नेताम एट्रोसिटी के आरोपी को बचा रहे, कांग्रेस ने राज्यसभा सदस्य के बयान की निंदा

रायपुर। (Chhattisgarh) राज्यसभा सदस्य एवं आदिवासी नेता रामविचार नेताम उस आरोपी को पाक साफ बताने में तुले हुए हैं जिस पर अनुसूचित जाति जनजाति वर्ग के अधिकारी के साथ जान से मारने की धमकी देने गाली गलौज करने और गाली गलौज करते हुए वीडियो वायरल कर छवि धूमिल करने एफआईआर दर्ज है। कांग्रेस ने राज्यसभा सदस्य राम विचार नेताम के बयान की कड़ी शब्दों में निंदा की है।

विजय शर्मा ने उस अधिकारी के साथ की थी गालीगलौज

(Chhattisgarh) प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि विजय शर्मा ने उस अधिकारी के साथ गाली गलौज करते हुये उसका वीडियो बनाकर वायरल करवाया था। रामविचार नेताम के बयान से भाजपा के अनुसूचित जाति वर्ग को लेकर क्या सोच है यह स्पष्ट उजागर हुआ है।(Chhattisgarh)  दुर्भाग्य की बात है रामविचार नेताम खुद एक आदिवासी नेता है और अजा जजा वर्ग के हितचिंतक होने का दावा करते हैं।

BJP के आरोपों को पीएल पुनिया ने नकारा, कहा- बीजेपी क्या चाहती है ? हम इसकी परवाह नहीं करते

विजय शर्मा के खिलाफ जो एफआईआर दर्ज है क्या वह झूठी

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने राज्यसभा सदस्य राम विचार नेताम से पूछा क्या अनुसूचित जाति जनजाति वर्ग के अधिकारी ने विजय शर्मा के खिलाफ जो एफआईआर दर्ज कराई है वह झूठी है? क्या भाजपा नेताओं को अनुसूचित जाति जनजाति वर्ग के अधिकारी कर्मचारियों के साथ गुंडागर्दी करने अपमानित करने का छूट? कवर्धा मामले में भाजपा का चरित्र जनता के बीच उजागर हो चुका है किस प्रकार से कवर्धा में बाहर से लोगों को बुलाकर कवर्धा को अशांत करने की कोशिश की गई।

Jharkhand: हथियार के बल पर पीटा, फिर लगवाए पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे, 4 कश्मीरी युवकों के साथ मारपीट, जल्द शहर छोड़ेन की दी धमकी, नहीं तो अंजाम भुगतने को रहो तैयार

मामलों के आरोपी का महिमामंडित कर रही

अब भाजपा कवर्धा मामले में हुई अपनी किरकिरी को आम जनता से छुपाने के लिए 8 मामलों के आरोपी का महिमामंडित कर रही है अनुसूचित जाति जनजाति वर्ग के अधिकारी को डराने धमकाने वाले को बचाने में लगी हुई है। यह भाजपा का अनुसूचित जाति जनजाति विरोधी कृत्य है। 15 साल तक छत्तीसगढ़ में भाजपा की सरकार के दौरान अनुसूचित जाति जनजाति वर्ग का शोषण होता रहा है और भाजपा से जुड़े अनुसूचित जाति जनजाति के नेता मौन रहते थे।

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: