छत्तीसगढ़

Chhattisgarh: कृषि कानून बिल को लेकर फिर तेज होगा विरोध स्वर, अब प्रदेश के राजिम में लगेगा किसान महापंचायत, दिल्ली के नेता भी आएंगे छत्तीसगढ़

रायपुर। (Chhattisgarh) केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों को लेकर विरोध तेज हो गया हैं। राजिम में 28 सितंबर को किसान महापंचायत होगा। महापंचायत में संयुक्त किसान मोर्चा दिल्ली के किसान नेता छत्तीसगढ़ आएंगे।  किसान नेता राकेश टिकैत, डॉ दर्शन पाल, योगेंद्र यादव, मेधा पाटकर, डॉ सुनील शामिल होंगे।  छत्तीसगढ़ किसान मजदूर महासंघ को दिल्ली जाकर न्यौता दिया।

गौरतलब है कि (Chhattisgarh)मोदी सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ देशभर के किसान प्रदर्शन कर रहे हैं। पिछले साल जैसे ही राज्यसभा और लोकसभा में कृषि कानून पारित हुए। वैसे ही भारत के किसान सड़कों पर आ गए। महीने भर सिंघु और दिल्ली बॉर्डर पर अपना डेरा जमाए हुए थे। केंद्र सरकार और किसानों के बीच चली कई राउंड की बातचीत से कोई नतीजा नहीं निकल सका। यहां तक केंद्र सरकार ने बोला कृषि कानून का असर भारतीय किसानों पर नहीं पड़ेगा। लेकिन किसान उनकी बातों को मानने से इंकार करते रहे। और अपनी मांगों पर अड़े रहे।

(Chhattisgarh)कृषि कानूनों का असर चुनावों पर भी देखने को मिला। भाजपा को चुनाव में शिकस्त भी झेलनी पड़ी। यहां तक की किसानों ने कहा कि जब तक कृषि कानून रद्द नहीं होते विरोध ऐसे ही जारी रहेगा।

अब छत्तीसगढ़ में किसान विरोधी बिल का असर दिखने लगा हैं। यहां के किसान भी लामबंद हो गए हैं। ऐसे आगे देखने वाली बात होगी की क्या फिर से प्रदेश सहित देश में कृषि कानूनों को लेकर विरोध स्वर फिर तेज होंगे।

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: