Chhattisgarh

Chhattisgarh: मोदी सरकार रेल किराया में जनता की जेब में डाका डाल रही, गरीबों से खीचों अमीरों को सीचों यही काम है मोदी सरकार का- कांग्रेस

रायपुर।  (Chhattisgarh) रेल किराया के नाम पर मोदी सरकार लोगो की जेबो में डाका डाल रही है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा कि जब कोरोना काल, आपदा काल, संकट काल में जब लोगों की आर्थिक स्थिति पहले से ही खराब है। केंद्र सरकार कोरोना के नाम पर पिछले लगभग साल भर से रेल किराया में 40 फीसदी तक बढ़ा कर वसूल रही है। (Chhattisgarh) जहां जनता कोरोना व महंगाई के अपने दर्द पर मलहम लगाने की उम्मीद कर रही थी, मोदी सरकार लगातार उस दर्द पर नमक छिड़कने का काम कर रही है। सामान्य दिनों में चलने वाली उसी ट्रेन को स्पेशल ट्रेन के रूप में चला कर सर चार्ज वसूला जा रहा। जानबूझकर नियमित ट्रेनों को नहीं चलाया जा रहा। इस कारण यात्रियों को लगातार गंभीर परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। कोरोना के हालात सामान्य होने के बाद भी ऐसे समय में भी मोदी सरकार आपदा को अवसर मानते हुये अतिरिक्त लाभ कमाने में लगी हुई है। क्योंकि इनकी एक ही नीति है, गरीबों को खीचों अमीरों को सीचों।

Congress: विष्णुदेव साय के बयान पर कांग्रेस का पलटवार, कहा- मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ को दी नई पहचान, रमन सिंह कमीशनखोरी, भ्रष्टाचार में थे नम्बर वन

(Chhattisgarh) प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा कि पहले रायपुर से बिलासपुर तक के यात्री को 60 रू किराया देना पड़ता था, अब उसे स्पेशल ट्रेन के नाम पर 170 रू. देना पड़ रहा है। ये एक खुली लूट है। मोदी सरकार ने एक के बाद एक गलत फैसले व नीति के कारण आज देश की जनता त्राहिमाम-त्राहिमाम कर रही है। बढ़े रेल्वे किराया से जनमानस की जेब पर बहुत असर पड़ेगा। बढ़े हुये रेल किराया को मोदी सरकार तत्काल वापस ले। व जो एमएसटी को तत्काल शुरू करें क्योंकि लगभग 5000 से ज्यादा एमएसटी धारक अकेले इस जोन में है। पहले एमएसटी धारकों को रायपुर से बिलासपुर के लिये शुल्क 600 रू. देना होता था जिसे रेलवे ने स्पेशल ट्रेन का नाम देकर यात्रियों से 5100 रू. वसूला जा रहा है। जिससे प्रतिमाह रेलवे यात्री को 4435 रू. अतिरिक्त देना पड़ रहा है ये भी रेल्वे की खुली लूट है व रेल्वे यात्रियों के जेबों में डाका डालना बंद करें। हम मांग करते है कि जनमानस की जरूरतों को ध्यान में रखते हुये एमएसटी को तुरंत चालू करें। अन्यथा उग्र आंदोलन किया जायेगा।

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: