छत्तीसगढ़

Chhattisgarh: रिश्वत में बकरा और मुर्गा नहीं देने पर वन कर्मचारियों ने पंडो जनजाति का तोड़ा घर, पूर्व मुख्यमंत्री ने भूपेश सरकार पर साधा निशाना, बोले- भूपेश बघेल की उपलब्धि देखिए.. कर्मचारियों को दारू-मुर्गे के पैसे न देने पर घर तोड़कर पिटाई

रायपुर। (Chhattisgarh) रिश्वत में बकरा और मुर्गा नहीं देने का खामियाजा पंडो जनजाति को भुगतना पड़ा। उनके घर को उजाड़ दिया गया। साथ ही मारपीट भी की गई। वन विभाग पर इसका आरोप लगा है। इसको लेकर पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने ट्वीट कर सरकार पर निशाना साधा है। ट्वीट करते हुए कहा कि भूपेश बघेल की उपलब्धि देखिए। राष्ट्रपति के दत्तक पुत्र कहे जाने वाले पंडो जाति के 4 महीने में कुपोषण से 23 लोगों की मौत हो गई।  (Chhattisgarh) सरकार भोजन और इलाज तक नहीं दे पा रही है। अब अधिकारी दारू-मुर्गे के पैसे न देने पर इनके घर तोड़ फोड़कर पिटाई कर रहे हैं।

Petrol- Diesel Price: महंगाई का झटका, डीजल में 25 पैसे की बढ़ोतरी, पेट्रोल की कीमत स्थिर, जानिए आज का रेट

(Chhattisgarh) मालूम हो कि पूरा मामला बलरामपुर जिले के वाड्रफनगर ब्लॉक से 20 किलोमीटर दूर बैकुंठपुर गांव का है. पंडो जनजाति के लोगों ने बताया कि 20 वर्ष पूर्व वन जमीन पर काबिज हुए. यहां खेती करके जीविकोपार्जन कर रहे हैं. जब से हम यहां काबिज हैं तब से अब तक वन विभाग के कर्मचारी हमसे 10 बकरा और 15 मूर्गी रिश्वत लिए हैं। इस बार भी बकरा मांगा, नहीं देने पर मकान तोड़ दिया.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: