राजनांदगांव

Campaign: अब मलेरिया मुक्त होगा दो जिला! मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ ने 36 गांवों में चलाया अभियान, जिला मुख्य चिकित्सा एव स्वास्थ अधिकारी ने लोगों से की ये अपील

ललित सिंह ठाकुर@राजनांदगांव। (Campaign) छत्तीसगढ और मध्य प्रदेश राज्य ने एक साझा अभियान चलाकर राज्य की सीमावर्ती जिला राजनांदगांव और बालाघाट के सीमावर्ती गांवों को मलेरिया मुक्त करने की पहल की है, और 36 गांवो का सर्वे कर मलेरिया जांच किया है ।

(Campaign) छत्तीसगढ़ राज्य के राजनांदगांव और मध्यप्रदेश के बालाघाट जिले के सीमावर्ती गांवों के लोगों को मलेरिया से बचाने के लिए एक अभिनव पहल दोनों राज्यों के सीमावर्ती जिलों के कलेक्टर ने की है।  दोनों जिलों के स्वास्थ्य विभाग के अमलों द्वारा सीमा क्षेत्र के गांवों में मास स्क्रीनिंग कार्यक्रम के तहत घर-घर सर्वे कर मलेरिया की जांच व उपचार किया गया है। जिला मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी ने बताया कि राजनांदगांव जिला महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश राज्य की सीमा से लगा हुआ है । (Campaign) छत्तीसगढ मलेरिया मुक्त अभियान के तहत दोनों राज्यो की सीमावर्ती गांवो मे मलेरिया संघन जांच एव उपचार अभियान चलाया गया। इसको लेकर दोनों जिलों के स्वास्थ्य विभाग के मैदानी अमले ने जिले के सीमावर्ती गांव मलैदा घाघरा साल्हेवारा सहित 36 गांवो मे पहुचकर लोगो का शत-प्रतिशत रक्त जांच किया है और मलेरिया पॉजिटिव आने पर उपचार किया है ।

Constable line Attached: पैसों के लेनदेन का वीडियो सामने आते ही एसएसपी ने आरक्षक को किया लाइन अटैच, सीएसपी को सौंपा गया जांच का जिम्मा

जिला मुख्य चिकित्सा एव स्वास्थ अधिकारी डॉ मिथलेश चौधरी ने बताया कि मलेरिया उन्मूलन के तहत गांव- गांव मे लोगों को मच्छरदानी का वितरण किया गया है। इसी तरह घरों मे डीडीटी का छिडकाव किया है। उन्होने बताया कि आगामी दिनों में महाराष्ट्र सीमा से लगे छुरिया, मानपुर, मोहला चौकी सहित राजनांदगांव जिले के सीमावर्ती जिले कांकेर कवर्धा और बालोद जिला से सटे गांवो मे मलेरिया उन्मूलन अभियान चलाया जायेगा, और जिले को मलेरिया मुक्त बनाया जायेगा। उन्होने लोगो को मच्छरदानी लगाकर सोने की अपील की है। वही पूरे शरीर को ढकने वाले कपडे पहनने की हिदायत दी है।

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: