कमर्शियल

Economy: अर्थव्यवस्था पर बड़ी खबर, रेटिंग एजेंसी फिच ने बढ़ाई सरकार की चिंता

नई दिल्ली। (Economy) कोरोना संकट के बीच रेटिंग एजेंसी फिच के मुताबिक इस वित्त वर्ष यानी 2020-21 में भारतीय अर्थव्यवस्था में 10.5 फीसदी की भारी गिरावट आ सकती है. यानी जीडीपी ग्रो​थ माइनस 10.5 फीसदी हो सकती है. गौरतलब है कि कोरोना संकट की वजह से देश की जून तिमाही की ​जीडीपी में 23.9 फीसदी की गिरावट आई है.

आधुनिक इतिहास की सबसे बड़ी गिरावट

यह भारत के आधुनिक इतिहास की सबसे बड़ी गिरावट थी. मार्च में कठोर लॉकडाउन लगाने की वजह से अर्थव्यवस्था में यह भारी गिरावट आई है. फिच ने कहा, ‘अर्थव्यवस्था(Economy) के फिर से खुलने के बाद अक्टूबर से दिसंबर की तीसरी तिमाही में जीडीपी में मजबूत सुधार होना चाहिए, लेकिन संकेत तो इस बात के दिख रहे हैं कि सुधार की गति धीमी और असमान होगी.

Chhattisgarh:D.ED, B.ED अभ्यर्थियों ने रद्द की भूख हड़ताल, राज्य शासन के आश्वासन के बाद लिया फैसला
जून तिमाही में 24 फीसदी की गिरावट

गौरतलब है कि देश के सकल घरेलू उत्पाद(Economy) में जून तिमाही में करीब 24 फीसदी की गिरावट आई है. इसको देखते हुए जानकार इस बात की मांग करने लगे हैं कि अर्थव्यवस्था के लिए दूसरा राहत पैकेज आना चाहिए. सरकार एक दूसरे बड़े राहत पैकेज ला सकती है, लेकिन यह शायद तब तक न हो, जब तक बाजार में कोरोना का टीका नहीं आ जाता.

Corona: बड़ी खबर, पीसीसी चीफ मोहन मरकाम कोरोना संक्रमित, स्टाफ के 3 लोग भी पॉजिटिव, ट्वीट कर दी जानकारी

 

 

Back to top button
%d bloggers like this: