कोरिया

Arrest: वैगनआर वाहन में लाखों का अवैध शराब हो रहा था परिवहन, मौके पर पहुंची पुलिस, आरोपी गिरफ्तार

कोरिया। जिले के पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह सर के द्वारा ड्रग्स, नारकोटिक्स एवं अवैध शराब के विरूद्ध चलाये जा रहे निजात अभियान के तहत कड़ी कार्यवाही करने हेतु निर्देश दिया गया है। कोरिया जिले के थाना झगराखाड़ क्षेत्र से लगे मध्य प्रदेश की सीमा थाना क्षेत्र राजनगर, बिजुरी से छत्तीसगढ़ कोरिया जिले में अवैध शराब परिवहन तस्करी पर पूर्णता अंकुश लगाने के निर्देश दिए गए थे, जिसके परिपेक्ष्य में थाना झगराखांड़ से मध्यप्रदेश के लगे क्षेत्र राजनगर, बिजुरी क्षेत्र में अवैध शराब परिवहन तस्करी की पतासाजी हेतु थाना प्रभारी झगराखाड प्रद्युम्न तिवारी के द्वारा मुखबीर लगाऐ गऐ थे, जिनके द्वारा आज रात को करीब 11:00 बजे थाना प्रभारी को सूचना दी गई कि बिजुरी तरफ से वैगनआर कार क्रमांक- सीजी 04 सीएच- 2505 में अवैध शराब लोड होकर कोरिया जिले की ओर जाने वाला है, प्राप्त सूचना की जानकारी जिले के पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह एवं एसडीओपी राकेश कुर्रे को दी गई,

Bilaspur: विधायक की शिकायत पर नपे थानेदार: शैलेष पांडेय से तारबहार थाने में हुआ था दुर्व्यवहार; SP ने किया लाइन अटैच, फिर कहा- चिटफंड का काम देखेंगे

जिनके द्वारा घेराबंदी कर सूचना की तस्दीक एवं रेड कार्रवाई करने के निर्देश दिए गऐ, जिस पर सुबल सिंह के द्वारा हमराह स्टाफ आरक्षक हरीश शर्मा, पुस्पेद्र तिवारी, सैनिक संतोष पटेल, मोहरसाय मरावी एवं गवाहों को साथ लेकर मुखबीर के बताऐ स्थान नेशनल हाईवे 43 पर भोला होटल के सामने घेराबंदी करने पर वैगनआर वाहन क्रमांक CG-04- CH-2505 रात करीब 11:30 बजे बिजुरी की ओर से घेराबंदी कर चैक तलाशी ली गई. 

Bilaspur : क्रिकेटर के घर में घुसकर मारपीट: बिलासपुर में रॉड, फावड़ा और डंडे से पिता, बच्चों और गर्भवती महिला को पीटा, पत्नी का सिर फोड़ा

वैगनआर वाहन को चालक आरोपी संदीप कुमार पिता धीरेंद्र कुमार प्रजापति उम्र 22 वर्ष निवासी ग्राम-पसौरी थाना केल्हारी बस स्टैंड मनेंद्रगढ़ चलाते मिला, वैगनआर वाहन की तलाशी लेने पर 14 कार्टून गोवा अग्रेजी शराब वैगनआर के बीच की सीट में तथा पीछे डिक्की में 04 पेटी गोवा अग्रेजी शराब कुल 18 पेटी शराब जब्त की गई। जिसकी कीमत  1,17,000 रुपये एवं वैगनआर वाहन कीमती 2,00,000 आरोपी के कब्जे से जप्त कर धारा 34(2),36,59 (क) आबकारी एक्ट के अंतर्गत प्रकरण पंजीबद्ध कर आरोपी को गिरफ्तार किया गया।

जिसे न्यायिक रिमांड प्राप्त करने हेतु न्यायालय पेश किया जा रहा है एवं प्रकरण पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: