Home जिले अबूझमाड़ पीस हाफ मैराथन 2020: 11 हजार प्रतिभागियों को दिया मात, फिर...

अबूझमाड़ पीस हाफ मैराथन 2020: 11 हजार प्रतिभागियों को दिया मात, फिर 21 किलोमीटर की दौड़ को 1 घंटे 2 मिनट पूरा कर आर्मी के इस जवान ने हासिल किया पहला स्थान, पढ़िए पूरी खबर

संजीव पंचौरी@नारायणपुर। छत्तीसगढ़ के नारायणपुर जिले में अमन और शांति के लिए आयोजित अबूझमाड़ पीस हाफ मैराथन 2020 में इंडियन आर्मी के जवान ने प्रथम स्थान प्राप्त किया है। जवान ने इस आयोजन में हिस्सा लिए लगभग 11 हजार प्रतिभागियों को मात देते हुए 21 किलोमीटर की दौड़ को 1 घंटे 2 मिनट में पूरा […]

अबूझमाड़ पीस हाफ मैराथन 2020: 11 हजार प्रतिभागियों को दिया मात, फिर 21 किलोमीटर की दौड़ को 1 घंटे 2 मिनट पूरा कर आर्मी के इस जवान ने हासिल किया पहला स्थान, पढ़िए पूरी खबर

संजीव पंचौरी@नारायणपुर। छत्तीसगढ़ के नारायणपुर जिले में अमन और शांति के लिए आयोजित अबूझमाड़ पीस हाफ मैराथन 2020 में इंडियन आर्मी के जवान ने प्रथम स्थान प्राप्त किया है। जवान ने इस आयोजन में हिस्सा लिए लगभग 11 हजार प्रतिभागियों को मात देते हुए 21 किलोमीटर की दौड़ को 1 घंटे 2 मिनट में पूरा कर लिया । वही दूसरे स्थान में केन्या के सीमन और तीसरे स्थान में दल्ली राजहरा के राम नारायण ने अपना परचम लहराया है । वही फीमेल में केन्या की ने प्रथम स्थान प्राप्त किया है। इस मैराथन की दौड़ में बड़ी संख्या में महिला पुरुषों के साथ स्कूली बच्चो ने भी हिस्सा लिया और 21 किलोमीटर को दौड़ पूरी की..बस्तर आई.जी. ने यह दौड लगभग पौने दो घन्टे मे पूरी की.. मौसम में आये बदलाव और भारी बारिश के बावजूद प्रतिभागियों को हौसला और जुनून कम नही हुआ। और सभी ने 21 कि मी की दौड़ पूरी की। वही नक्सल प्रभावित इलाके में हुए इस कार्यक्रम को देखते हुए पुलिस ने भी सुरक्षा के तगड़े इंतजाम कर रखे थे।

जिले में दूसरी बार हुए इस हाफ मैराथन की दौड़ में बड़ी संख्या में लोग ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। छत्तीसगढ़ के साथ ही देश के कोने-कोने से और केन्या से भी 2 प्रतिभागी नारायणपुर के अबूझमाड़ मैराथन दौड़ में शामिल होने पहुंचे। कुल 11 हजार 292 प्रतिभागियो ने इस दौड़ में हिस्सा लिया। यह दौड़ नारायणपुर से शुरू होकर घोर नक्सल प्रभावित क्षेत्र व नक्सलियों का गढ़ कहे जाने वाले बासीन ग्राम में समाप्त हुआ। और इस बार इंडियन आर्मी के जवान शंकर माथन ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। जवान शंकर माथुर ने कहा कि वैसे पहले भी 60 से अधिक मैराथन में दौड़ चुके हैं । लेकिन उन्हें पहली बार छत्तीसगढ़ आने का मौका मिला है। उन्होंने कहा कि प्रशासन ने सारी व्यवस्था अच्छी कर रखी थी इस वजह से उन्हें किसी तरह के दिक्कतों का सामना नही करना पड़ा। और यह पहला मौका था जब उन्होंने केन्या के किसी धावक के साथ प्रतियोगिता में हिस्सा लिया। इसके अलावा जवान माथन ने कहा कि वे बेहद खुश है कि उन्हें अबूझमाड़ में नक्सलवाद से निजात और इस क्षेत्र में अमन शांति के लिए इस प्रतियोगिता में शामिल होने का मौका मिला।

वही इस दौड़ में दूसरे स्थान पर आये केन्या के सीमन ने भी प्रशासन द्वारा की गई व्यवस्था की तारीफ की । और कहा कि वे किस दौड़ में शामिल होकर बेहद गर्व महसूस कर रहे हैं क्योंकि छत्तीसगढ़ राज्य के अबूझमाड़ इलाके में अमन शांति के लिए की गई इस मैराथन दौड़ का वे हिस्सा बने और दूसरे स्थान पर आएं। और आगे भी उन्होंने इस तरह के आयोजन में हिस्सा लेने की बात कही। वही इस मैराथन दौड़ के आयोजको में से एक बस्तर के आईजी सुंदरराज पी ने भी शांति का संदेश देने इस मैराथन दौड़ में हिस्सा लिया और पूरी 21 किलोमीटर की दौड़ लगाई। आईजी ने कहा कि जिला प्रशासन के प्रयासों से मैराथन का यहां दौड़ काफी सफल आयोजन रहा। इस दौड़ में विदेश के दो प्रतिभागी के साथ ही देश के कोने कोने से भी बड़ी संख्या में प्रतिभागी इस अबूझमाड़ पीस हाफ मैराथन दौड़ में शामिल हुए।

उन्होंने कहा कि आने वाले साल इस शांति के दौड़ को और भव्य रुप से किया जाएगा ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग दौड़ में शामिल हो सके। बस्तर आईजी ने सभी प्रतिभागियों का उत्साहवर्धन करते हुए सम्मानित भी किया। वही इस प्रतियोगिता के समापन समारोह में प्रदेश के मुखिया भूपेश बघेल घोर नक्सल प्रभावित क्षेत्र समापन स्थल बासीन ग्राम पहुंचकर 1 से लेकर पांचवे स्थान तक आए प्रतिभागियों को पुरस्कृत कर उनका सम्मान करेंगे।