Home ब्रेकिंग न्यूज़ नक्सलवाद को लेकर बनेगी नई रणनीति, राज्यपाल उइके के साथ जल्द  बैठक...

नक्सलवाद को लेकर बनेगी नई रणनीति, राज्यपाल उइके के साथ जल्द  बैठक करेंगे केन्द्रीय गृह सचिव

रायपुर। प्रदेश में नक्सल विरोधी अभियान को लेकर नई रणनीति तैयार होने वाली है।  इसकी जानकारी खुद राज्यपाल अनुसुईया उइके ने देते हुए बताया कि  21-22 अक्टूबर को गृह सचिव आने वाले हैं, मेरी केंद्रीय गृह मंत्री से बात हुई है, गृह सचिव के साथ बैठकर नक्सलवाद पर नया प्लान बनायेंगे। शुक्रवार को राजधानी में […]

रायपुर। प्रदेश में नक्सल विरोधी अभियान को लेकर नई रणनीति तैयार होने वाली है।  इसकी जानकारी खुद राज्यपाल अनुसुईया उइके ने देते हुए बताया कि  21-22 अक्टूबर को गृह सचिव आने वाले हैं, मेरी केंद्रीय गृह मंत्री से बात हुई है, गृह सचिव के साथ बैठकर नक्सलवाद पर नया प्लान बनायेंगे।

शुक्रवार को राजधानी में राज्यपाल अनुसुइया उइके ने 8 यूनिवर्सिटी के कुलपतियों की बैठक ली। राज्यपाल ने विश्वविद्यालयों के कार्यक्रमों की भी समीक्षा की। बैठक में विश्वविद्यालयों के अतिरिक्त सचिवों को बुलाया गया था। राज्य के सभी विश्वविद्यालयों को 5-5 गांव गोद लेने के लिए कहा गया है।

विश्वविद्यालय गोद लिए गए गांवों में स्वच्छता के कार्यों, रेनवाटर, टूरिज्म समेत कई योजनाओं का इम्प्लीमेंट करेंगे। इसकी मॉनिटरिंग के लिए एक-एक नोडल अधिकारियों को जिम्मेदारी दी गई है। राज्यपाल ने कहा कि राज्य में विश्वविद्यालयों की ग्रेडिंग ख़राब है।

रूसा के अंतर्गत जो बिल्डिंग 2015 में बनाने का काम दिया गया था, जिसका काम 2019 में शुरू हुआ। राज्यपाल अनुसुइया उइके ने इसे विडम्बना करार दिया है। बैठक में कहा गया कि समय पर परीक्षा और परिणाम के लिए कैलेण्डर बनाया जाये। प्लास्टिक से मुक्ति के लिए विश्वविद्यालयों में कांच के बोतलों में पानी दिया जाये। विश्वविद्यालयों में 1384 पद खाली है, इसके लिए विश्वविद्यालय विज्ञापन जारी करे।

विश्वविद्यालयों में अतिथि शिक्षक को ख़त्म कर प्रोफेसरों की भर्ती किया जाये। बैठक में आगे कहा गया कि कौशल विकास कार्यक्रम के तहत परीक्षण कर नौकरी दिया जाये। बैठक में कहा गया कि कि St/sc के कई प्रोफेसरों को अब तक प्रमोशन नही मिला है। राज्यपाल ने सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों का पालन करने निर्देश दिए हैं।

रविशंकर शुक्ल का ढाई करोड़ रुपये पीडब्ल्यूडी में अब तक बकाया है। जो अब तक वापस नही हुआ है। राज्यपाल ने कहा इन मुद्दों को लेकर सीएम और शिक्षामंत्री से मिलकर दिशानिर्देश दिया जाएगा। कुलपतियों ने राज्यपाल को बताई परेशानी बताते हुए कहा कि इससे पहले इतने बड़े पैमाने पर कभी समीक्षा बैठक नही हुई थी। छत्तीसगढ़ में विश्वविद्यालय महाविद्यालय में अच्छी गुणवत्ता आये, अच्छे विषय पर शोध हो इसके  लिए  नोडल एजेंसी बनाया जाए।

राज्यपाल अनुसुइया उइके 22 अक्टूबर को गरियाबंद के सुपेबेड़ा जाएंगी। राज्यपाल सुपेबेड़ा के किडनी पीड़ितों से मुलाकात करेंगी। बता दें कि पखवाड़े भर के भीतर ही किडनी पीड़ित 2 लोगों की मौत हो चुकी है। बीते दिनों किडनी पीड़ित अकालू की मौत हो गई। इससे पहले ग्रामीण पुरंधर पुरैना ने दम तोड़ दिया था। साथ ही आपको बता दें कि विगत 5 सालों में किडनी पीड़ितों की मौत का ये आंकड़ा 71वीं तक पहुँच गया है। हाल ही में स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव सुपेबेड़ा निरीक्षण पर भी गए थे।