Home जिले कबीर धाम(कवर्धा) प्रशासन के विकास के दावे की खुली पोल, बच्चे के शव के...

प्रशासन के विकास के दावे की खुली पोल, बच्चे के शव के साथ एक पिता घंटों फंसा रहा

कवर्धा। जिला प्रशासन के तमाम विकास के दावे धरी की धरी रह गई, जब एक बच्चे के शव के साथ एक पिता घंटों फंसा रहा। एम्बुलेंस ने बारिश और खराब सड़कों की वजह से आगे जाने से मना कर दिया। जिसके बाद उस पिता ने गांव से टैक्टर मंगाई, लेकिन टैक्टर में आने में वक्त […]

कवर्धा। जिला प्रशासन के तमाम विकास के दावे धरी की धरी रह गई, जब एक बच्चे के शव के साथ एक पिता घंटों फंसा रहा। एम्बुलेंस ने बारिश और खराब सड़कों की वजह से आगे जाने से मना कर दिया। जिसके बाद उस पिता ने गांव से टैक्टर मंगाई, लेकिन टैक्टर में आने में वक्त लगा और सड़क पर बच्चे के शव के साथ पिता तमाशबीन बना रहा।

मानवता को शर्मसार कर देने वाला यह पूरा मामला कवर्धा जिले के पंडरिया विकासखण्ड के ग्राम करपी गोडान का है, खराब सड़क ने प्रशासन की पोल खोलकर रख दी है।  यहां पर एक पिता को बरसते पानी मे अपने बच्चे के शव को घर ले जाने के लिए ट्रेक्टर का सहारा लेना प़ड़ा। ऐसा इसलिए कि वहां पर सड़क की हालत बहुत खराब है। मामला पंडरिया थाना क्षेत्र का है।  करपी गोड़ान निवासी आशीष मसकोले की रात में आचानक तबियत बिगड गई। सड़क के अभाव में परिजन बच्चे को तत्काल अस्पताल नहीं ले जा सकें। सुबह तक बच्चे की हालत काफी खराब हो गई। जिसके बाद परिजन गांव के ही एक डॉक्टर के पास ले गए। हालत अधिक खराब होने की वजह से उसे रेफर कर दिया गया।

जिसके बाद बच्चे को निजी अस्पताल में दाखिल कराया गया। लेकिन हालत ज्यादा गंभीर हो जाने की वजह बच्चे ने अस्पताल में दम तोड़ दिया। वहीं अस्पताल ने बच्चे के शव को परिजनों को सौप दिया। मासूम बच्चे के शव को लेकर एम्बुलेंस से घर लाया जा रहा था। तभी सड़क खराब होने की वजह से एंबुलेस आगे नहीं जा पाया। परिजन बीच सड़क पर भारी बारिश से कई घंटों तक फंसे रहे। काफी देर के बाद गांव से टैक्टर बुलाया गया और उससे बच्चे के शव को घर ले जाया गया। इस सड़क को बनाने के लिए ग्रामीणों ने कई बार प्रशासन से गुहार लगाया, लेकिन सड़क की हालत में कोई सुधार नहीं किया गया।