Home जिले Video: माता-पिता का पूजन कर जब बच्चों ने लिया उनका आशीर्वाद..प्रेम का...

Video: माता-पिता का पूजन कर जब बच्चों ने लिया उनका आशीर्वाद..प्रेम का ऐसा अनुपम संबंध देखकर भर आई मां-बाप की आंखे…

किशोर साहू@बालोद। जिले के ग्राम पंचायत बेलमाण्ड में मातृ-पितृ पूजन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जहां सैकड़ों की संख्या में बच्चे अपने माता-पिता की पूजा कर उनसे आशीर्वाद लिया। दरअसल वर्तमान मॉडल परिवेश में विलुप्त होती संस्कृति व संस्कार को बचाए रखने ग्राम बेलमाण्ड के पुरुषोत्तम राजपूत द्वारा विगत 3 वर्षों से लगातार आयोजन किया […]

Video: माता-पिता का पूजन कर जब बच्चों ने लिया उनका आशीर्वाद..प्रेम का ऐसा अनुपम संबंध देखकर भर आई मां-बाप की आंखे…

किशोर साहू@बालोद। जिले के ग्राम पंचायत बेलमाण्ड में मातृ-पितृ पूजन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जहां सैकड़ों की संख्या में बच्चे अपने माता-पिता की पूजा कर उनसे आशीर्वाद लिया। दरअसल वर्तमान मॉडल परिवेश में विलुप्त होती संस्कृति व संस्कार को बचाए रखने ग्राम बेलमाण्ड के पुरुषोत्तम राजपूत द्वारा विगत 3 वर्षों से लगातार आयोजन किया जाता है। इस आयोजन के दौरान मां बाप और बच्चों के प्रेम का अनुपम संबंध देखने को मिलता है। जहां हर किसी के आंखों से खुशी के आंसू छलक पड़ते हैं ।

एक तरफ जहा समूचा देश वैलेंटाइन डे मन रहा था। बालोद जिले के ग्राम बेलमांड में माता पिता दिवस मनाया गया। इस खास मौके पर बच्चे अपने माता पिता की आरती उतार रहे हैं। साथ ही उनकी परिक्रमा कर रहे हैं। उनके साथ गले मिल कर उनके सुख दुःख बाट रहे हैं। उनके चरणों पर अपना शीस नवा कर आशीवार्द ले रहे थे। ये भारतीय संस्कृति को जगाने का एक प्रयास है। दरसल ग्राम बेलमांड में हजारो की तादाद में इक्क्ठा हुए ये मां बाप उनके बच्चे आज यहां मातृ-पितृ दिवस मना रहे हैं। जहां वैलेंटाइन डे जैसे वेस्टन संस्कृति को अलग मान कर ये लोग माता पिता दिवस मना कर भारतीय संस्कृति को जगाने का प्रयास करते नजर आए। ये देखकर माँ बाप की आंखे भर आई। वहीं बच्चे भी अपने मां बाप की इस तरह पूजा करके उन्हें जीवन में सर्वोच्च स्थान दे रहे हैं।

माता पिता दिवस मना कर लोग बढ़ा अच्छा महसुस करे। यहां उनका कहना है की बच्चे इस तरह के आयोजन से संस्कारी बनेगे। बच्चे भी इस आयोजन से माँ बाप को सबसे अलग और सर्वोच्च मान कर काफी खुश है। देश में लोग वैलेंटाइन डे मनाकर फिजूल ही भारतीय संस्कृति को अलग कर देते हैं। इधर माता पिता दिवस मना कर भारतीय संस्कृति को नई पहचान मिलेगी। इस युग में जहा लोग अपने मां बाप को भूल जाते हैं ऐसे में ग्राम बेलमांड में हुए इस आयोजन में एक बार फिर भारतीय संस्कृति को अलग पहचान देने की कोशिश की है।