Home जिले रायपुर सांसद सुनील सोनी के बयान पर कांग्रेस की प्रतिक्रिया, कहा- विधानसभा चुनाव...

सांसद सुनील सोनी के बयान पर कांग्रेस की प्रतिक्रिया, कहा- विधानसभा चुनाव के बाद कांग्रेस की हैट्रिक जीत की करेंट से भाजपा बेसुध

रायपुर। भाजपा सांसद सुनील सोनी के बयान पर कांग्रेस ने पलटवार किया। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि सांसद सुनील सोनी अपना अनुभव बता रहे हैं की कैसे मोदी-शाह ईडी, सीबीआई का दुरुपयोग कर बिना बहुमत के सरकार बनाते है और 15 साल के रमन शासनकाल के दौरान हुए उपचुनाव नगरीय निकाय […]

सांसद सुनील सोनी के बयान पर कांग्रेस की प्रतिक्रिया, कहा- विधानसभा चुनाव के बाद कांग्रेस की हैट्रिक जीत की करेंट से भाजपा बेसुध

रायपुर। भाजपा सांसद सुनील सोनी के बयान पर कांग्रेस ने पलटवार किया। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि सांसद सुनील सोनी अपना अनुभव बता रहे हैं की कैसे मोदी-शाह ईडी, सीबीआई का दुरुपयोग कर बिना बहुमत के सरकार बनाते है और 15 साल के रमन शासनकाल के दौरान हुए उपचुनाव नगरीय निकाय एवं त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में भाजपा ने जिस तरह सत्ता तंत्र और कालेधन का इस्तेमाल कर चुनाव जीतती रही। अंतागढ़ के उपचुनाव में हुई लोकतंत्र की हत्या के गुनाहगार पूर्व की रमन सरकार है। अंतागढ़ उपचुनाव में किस प्रकार बन्दूक की नोक से प्रत्याशियों को डराया, धमकाया गया था। यह छत्तीसगढ़ की जनता ने ऑडियो के माध्यम से सुना है और पीड़ितों ने भी बयां किया है।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा है कि कांग्रेस की हैट्रिक जीत की करेंट से भाजपा बेसुध है। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में मिली करारी हार की बदहवासी में भाजपा के नेता हार की जिम्मेदारी लेने से बचने कांग्रेस पर खरीद-फरोख्त का आरोप लगा रही है। भाजपा सांसद सुनील सोनी आत्ममंथन करें। 6 महीना पहले हुये लोकसभा के चुनाव में साढ़े तीन लाख वोट से विजयी होते है और 6 माह बाद हुये नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव में करारी हार का सामना करना पड़ता है।

ये रमन सरकार के 15 साल और मोदी सरकार के बीते 6 साल में किसानों के साथ धोखा, छल हुआ है उसी का ही परिणाम है। दो उपचुनाव, नगरीय निकाय चुनाव के बाद त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में भाजपा को अपने करनी का फल भोगना पड़ा है। किसानों के हित में बाधक भाजपा नेताओं के चरित्र से छत्तीसगढ़ के गांव के किसान, मजदूर, महिलाएं, युवा वाकिफ हो गये थे। जब राज्य के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार सीधा किसानों के धान को 2500 रू. दाम दे रही थी तब किस प्रकार से केंद्र की मोदी सरकार ने किसानों के धान खरीदी पर अड़ंगा लगाया गया और उस दौरान सांसद सुनील सोनी क्यों मौन थे?